Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Apr 2022 · 1 min read

पिता हैं धरती का भगवान।

पिता है धरती पर भगवान,
उंगली पकड़कर चलना सिखाया
सही गलत में भेद बताया।
गढता है सच्चा इंसान
पिता है धरती पर भगवान।
कठिनाई में साथ रहा है,
सर पर हरदम हाथ रहा है ।
आशीर्वाद है वरदान,
पिता है धरती पर भगवान।
श्रम से बच्चों का पालन करता,
स्वयं प्रकाश बन राह दिखाता,
भर भर देता गुण की खान।
पिता है धरती पर भगवान।
कंधे से सदा सहारा देता
कम खाकर भी पालन करता,
इनके कार्य महान
पिता है धरती पर भगवान।।
#विन्ध्य प्रकाश मिश्र विप्र
नरई संग्रामगढ प्रतापगढ़ उप्र 230141
मो 9198989831

Language: Hindi
Tag: मुक्तक
8 Likes · 6 Comments · 359 Views
You may also like:
पूरी करता घर की सारी, ख्वाहिशों को वो पिता है।
सत्य कुमार प्रेमी
दिल और दिमाग़
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मैं कौन हूँ
Vikas Sharma'Shivaaya'
तपिश
SEEMA SHARMA
माँ
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
✍️तर्क✍️
'अशांत' शेखर
गुरु तुम क्या हो यार !
jaswant Lakhara
“BETRAYAL, CHEATING AND PERSONAL ATTACK ARE NOT THE MISTAKES TO...
DrLakshman Jha Parimal
सुकून के धागे ...
Seema 'Tu hai na'
मैं उनको शीश झुकाता हूँ
Dheerendra Panchal
विद्यार्थी परीक्षाओं से डरें नही बल्कि डटकर मुकाबला करें
पंकज कुमार शर्मा 'प्रखर'
हिंदी दोहे- न्याय
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
और न साजन तड़पाओ अब तुम
Ram Krishan Rastogi
इंसान जिन्हें कहते
Dr fauzia Naseem shad
जुल्म की इन्तहा
DESH RAJ
कान्हा तुमको सौ-सौ बार बधाई (भक्ति गीत)
Ravi Prakash
गुमूस्सेर्वी "Gümüşservi "- One of the most beautiful words of...
अमित कुमार
वजह क्या हो सकती है
gurudeenverma198
बगिया का गुलाब प्यारा...
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
वृक्ष हस रहा है।
विजय कुमार 'विजय'
O brave soldiers.
Taj Mohammad
चाहत
Lohit Tamta
तिरंगा
Ashwani Kumar Jaiswal
छंद:-अनंगशेखर(वर्णिक)
संजीव शुक्ल 'सचिन'
हर रास्ता मंजिल की ओर नहीं जाता।
Annu Gurjar
झूठी वाहवाही
Shekhar Chandra Mitra
परिणय
मनोज कर्ण
सफर
Anamika Singh
करके तो कुछ दिखला ना
कवि दीपक बवेजा
विश्व शांति
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Loading...