Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 May 2022 · 1 min read

पिता हैं छाँव जैसे

धूप है दुनिया पिता हैं छाँव जैसे।
शह्र की तनहाइयों में गाँव जैसे।

कोई भी कठिनाई कैसे छू सकेगी।
उँगली उनके हाथ में जब तक रहेगी।
वो अभावों में मेरी उपलब्धि हरदम।
साथ उनके ही नियति उन्नति लिखेगी।

राह में जीवन की मेरे पाँव जैसे।
धूप है दुनिया पिता हैं छाँव जैसे।

मुझसे मेरे भाग्य के दो पाद आगे।
चित्त की जागृति में वो हर वक्त जागे।
एक सूची जो कि संघर्षी रही है।
रिश्तों के नाजुक सम्हाले हैं वो धागे।

स्वप्न के साकार की वो ठाँव जैसे।
धूप है दुनिया पिता हैं छाँव जैसे।

उन निगाहों ने गुजारे दौर सारे।
बीज से फलदार तरु के तौर सारे।
वो हृदय जो नेह में लिपटा हुआ है।
सामने उसके नीरस मन और सारे।

वो जो मुझमें जी रहा हर दाँव जैसे।
धूप है दुनिया पिता हैं छाँव जैसे।

अंकित शर्मा ‘इषुप्रिय’

Language: Hindi
Tag: गीत
13 Likes · 4 Comments · 441 Views
You may also like:
भूख
Saraswati Bajpai
■ आज का मुक्तक
*Author प्रणय प्रभात*
ज़िन्दगी
akmotivation6418
क्या फायदा...
Abhishek Pandey Abhi
मोटर गाड़ी खिलौना
Buddha Prakash
मृत्यु... (एक अटल सत्य )
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
सुबह की एक किरण
कवि दीपक बवेजा
बाज़ी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
जिसे पाया नहीं मैंने
Dr fauzia Naseem shad
" सब्र बचपन का"
Dr Meenu Poonia
*विश्वरूप दिखलाओ (भक्ति गीत)*
Ravi Prakash
मेरे दिल के करीब आओगे कब तुम ?
Ram Krishan Rastogi
भारतीय रेल
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
अन्हरिया रात
Shekhar Chandra Mitra
साँझ
Alok Saxena
Dear Mango...!!
Kanchan Khanna
पुरानी यादें
Palak Shreya
भारतीय महीलाओं का महापर्व हरितालिका तीज है।
आचार्य श्रीराम पाण्डेय
अन्तिम करवट
Prakash juyal 'मुकेश'
जस का तस / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
🥀🍂☘️तुम सावन से लगते हो☘️🍂🥀
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
✍️वक़्त आने पर ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
. खुशी
Vandana Namdev
सितारे गर्दिश में
shabina. Naaz
खुशियाँ ही अपनी हैं
विजय कुमार अग्रवाल
1 jan 2023
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
द माउंट मैन: दशरथ मांझी
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
बताओ मुझे
Anamika Singh
गुरु
Mamta Rani
कुछ शेर रफी के नाम ..
ओनिका सेतिया 'अनु '
Loading...