Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

पिता हिमालय है

पिता परिवार की खातिर, हिमालय सा अचल रहता।
पिता का साथ है तो झोंपड़ी सा घर महल रहता ।।
पिता की हर खुशी कुर्बान, बच्चों के लिए रहती ।
पिता पाषाण है लेकिन, हृदयतल से कमल रहता।।

पिता का कर्म है पौरुष ,उसे दिनरात जलना है ।
परिश्रम की कढ़ाही में, उसे पूरा पिघलना है।।
पिता का फ़र्ज़ सेवा है , यही उसकी बड़ी पूँजी ।
पिता का ऋण अदा करके , उसे चुपचाप चलना है ।।

-जगदीश शर्मा सहज

9 Likes · 13 Comments · 84 Views
You may also like:
पहले ग़ज़ल हमारी सुन
Shivkumar Bilagrami
छंदों में मात्राओं का खेल
Subhash Singhai
नव विहान: सकारात्मकता का दस्तावेज
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
पिता
Dr.Priya Soni Khare
आईने की तरह मैं तो बेजान हूँ
सन्तोष कुमार विश्वकर्मा 'सूर्य'
पिता
Surabhi bharati
खुशियों की रंगोली
Saraswati Bajpai
डरिये, मगर किनसे....?
मनोज कर्ण
आंचल में मां के जिंदगी महफूज होती है
VINOD KUMAR CHAUHAN
गुरू गोविंद
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
" बहू और बेटी "
Dr Meenu Poonia
पापा करते हो प्यार इतना ।
Buddha Prakash
उस दिन
Alok Saxena
तप रहे हैं प्राण भी / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
दिलदार आना बाकी है
Jatashankar Prajapati
"सुनो एक सैर पर चलते है"
Lohit Tamta
हे ! धरती गगन केऽ स्वामी...
मनोज कर्ण
कलम
Pt. Brajesh Kumar Nayak
अनमोल घड़ी
Prabhudayal Raniwal
हे विधाता शरण तेरी
Saraswati Bajpai
अश्रु देकर खुद दिल बहलाऊं अरे मैं ऐसा इंसान नहीं
VINOD KUMAR CHAUHAN
If we could be together again...
Abhineet Mittal
बरगद का पेड़
Manu Vashistha
विश्व फादर्स डे पर शुभकामनाएं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
आदर्श ग्राम्य
Tnmy R Shandily
💐 देह दलन 💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
माँ दुर्गे!
Anamika Singh
चंद दोहे....
डॉ.सीमा अग्रवाल
सुख दुख
Rakesh Pathak Kathara
श्रमिक
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
Loading...