Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

पिता – जीवन का आधार

हाँ पिता ही हैं, जीवन का आधार
घर की खुशियाँ पिता से ही हैं,
मुझे याद है अभी भी –
मेरी उँगली पकड़कर, बाजार को ले जाते
जब मैं थक जाता तो कन्धे पे बिठाके खूब सैर कराते ।

पिता पूरे परिवार को एक सूत्र में बाँधता है,
अपनी खुशियों को बच्चों की तरक्की में खोजता है,
बच्चों में अच्छे संस्कार के लिए
माँ के साथ पिता का भी अहम योगदान रहता है ।

बाहर से कठोर , अन्दर से कोमल
हाँ नारियल सा अस्तित्व रहता है,
पिता की छत्र – छाया में घर सुसज्जित
एवं सुरक्षित रहता है ।

जमाने भर का बोझ, वह बच्चों के लिए उठाता है,
लालन – पालन में कोई कमी न आ जाये,
इसलिए जी तोड़ मेहनत करता है,
बच्चों के सपनों को पूरा करने के लिए
हमेशा तत्पर रहता है ।

पिता तो ईश्वर की नेमत है,
पिता तो भौतिक एवं रासायनिक आधार है,
पिता से ही तो सारा जहां है,
माँ यदि धरती तो पिता आसमाँ है ।।

– आनन्द कुमार
हरदोई (उत्तर प्रदेश)

13 Likes · 14 Comments · 498 Views
You may also like:
जग का राजा सूर्य
Buddha Prakash
तेरे संग...
Dr. Alpa H. Amin
जिम्मेदारी और पिता
Dr. Kishan Karigar
कायनात के जर्रे जर्रे में।
Taj Mohammad
मित्रों की दुआओं से...
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
मुझमें भारत तुझमें भारत
Rj Anand Prajapati
शहीद होकर।
Taj Mohammad
मेरे सनम
DESH RAJ
मरने के बाद।
Taj Mohammad
*हास्य-रस के पर्याय हुल्लड़ मुरादाबादी के काव्य में व्यंग्यात्मक चेतना*
Ravi Prakash
💐💐प्रेम की राह पर-18💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
जाति- पाति, भेद- भाव
AMRESH KUMAR VERMA
लांगुरिया
Subhash Singhai
किसान
Shriyansh Gupta
वसंत का संदेश
Anamika Singh
चले आओ तुम्हारी ही कमी है।
सत्य कुमार प्रेमी
✍️सुकून✍️
"अशांत" शेखर
चलो जिन्दगी को।
Taj Mohammad
*श्री राजेंद्र कुमार शर्मा का निधन : एक युग का...
Ravi Prakash
"ज़ुबान हिल न पाई"
अमित मिश्र
कन्यादान क्यों और किसलिए [भाग६]
Anamika Singh
मेहनत
Arjun Chauhan
रोमांस है
Pt. Brajesh Kumar Nayak
*आचार्य बृहस्पति और उनका काव्य*
Ravi Prakash
भारत
Vijaykumar Gundal
*पुस्तक का नाम : अँजुरी भर गीत* (पुस्तक समीक्षा)
Ravi Prakash
कुछ कहना है..
Vaishnavi Gupta
पिता
Deepali Kalra
हस्यव्यंग (बुरी नज़र)
N.ksahu0007@writer
नाम
Ranjit Jha
Loading...