Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#10 Trending Author
May 7, 2022 · 2 min read

पिता खुशियों का द्वार है।

पुत्र कृति है, रचनाकार पिता,,,
पुत्र सृष्टि है निर्माण कर्ता पिता।।
पुत्र का संपूर्ण संसार है पिता,,,
इसका परिपूर्ण आकार विस्तार हैं पिता।।

समंदर की थाह,अथाह हैं पिता,,,
कल्पतरू, परिजात हैं पिता।।
पुत्र की तृष्णा जो मिटा दे,,,
वह बरसात हैं पिता।।

सारी जन्नतें अधूरी है बिन पिता के,,,
पुत्र की मन्नते पूरी है पिता से कहने से।।
पिता के आगे नभ भी छोटा लगता है,,,
पिता के अपनत्व से जग भी छोटा लगता है।।

आसमान सा पिता विस्तृत होता है,,,
सबसे बड़ा हित,चिंतक पिता होता है।।
तन, मन, धन से पिता समर्पित रहता है,,,
परिवार के लिए सदैव जीवन अर्पित करता है।।

बचपन से जीवन भर पिता हर दस्तावेज में साथ चलता है,,,
उसके नाम बिना दुनियां में पुत्र का कोई काम ना होता है।।

पुत्र की शिराओं में पिता का रक्त बहता है,,,
वो पुत्र के अंदर जीवन पर्यन्त चलता है।।
पुत्री के लिए सर का ताज होता है,,,
उसमें भी वह रक्त रूप में अविरल बहता है।।

मां अश्रुधारा तो पिता संयम का बांध होता है,,,
चोट लगने पर यदि”ओह मां”तो घबराने पर “अरे बाप रे”भी मुंह से निकलता है।।

असमंजस के क्षण पिता विश्वास देता है,,,
यह विश्वास,आत्मविश्वास बन जाता है।।
कोटि कोटि नमन उस पिता को जिसने
चलना सिखलाया है,,,
सुख दुख के हर क्षण में पिता ने
साथ निभाया है।।

पुत्र पिता में सदा देखता आस है,,,
पिता में ही पुत्र का संपूर्ण विश्वास है।।

पिता जीवन में महारथी होता है,,,
पिता पुत्र की जिम्मेदारियों के रथ का सारथी होता है।।

ईश्वर के ही रूप में पिता का शरीर है,,,
जिसका पिता है वह दुनियाँ में अमीर है।।

परिवार में पिता खुशीयों का द्वार है,,,
पत्नी,बच्चो से सदा ही करता वह प्यार है।।

पिता बंजर ज़मीन का किसान है,,,
पिता उम्मीदों भरा एक आसमान है।।
पिता एक इम्तिहान है,,,
जिसको पढ़ना बड़ा आसान है।।

पिता भक्ति के योग्य है,,,
पिता,पुत्र का मिलना बड़ा संयोग है।।
पुत्र,पिता रूपी वटु वृक्ष की साख है,,,
जो देता हमेशा पुत्र को छांव है।।

ताज मोहम्मद
लखनऊ

पिता

2 Likes · 2 Comments · 96 Views
You may also like:
पिता
Vandana Namdev
नव सूर्योदय
AMRESH KUMAR VERMA
गाऊँ तेरी महिमा का गान (हरिशयन एकादशी विशेष)
श्री रमण 'श्रीपद्'
सच एक दिन
gurudeenverma198
✍️वो क्यूँ जला करे.?✍️
'अशांत' शेखर
जीभ का कमाल
विजय कुमार अग्रवाल
मनुज शरीरों में भी वंदा, पशुवत जीवन जीता है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
पिता की व्यथा
मनोज कर्ण
बख्स मुझको रहमत वो अंदाज़ मिल जाए
VINOD KUMAR CHAUHAN
दृश्य प्रकृति के
श्री रमण 'श्रीपद्'
वादी ए भोपाल हूं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
नास्तिक सदा ही रहना...
मनोज कर्ण
जुनू- जुनू ,जुनू चढा तेरे प्यार का
Swami Ganganiya
एहतराम करते है।
Taj Mohammad
इश्क ए बंदगी में।
Taj Mohammad
🍀🌺परमात्मा सर्वोपरि🌺🍀
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
गाँव के रंग में
सिद्धार्थ गोरखपुरी
✍️नफरत की पाठशाला✍️
'अशांत' शेखर
सागर ने लहरों से की है ये शिकायत।
Manisha Manjari
कर्म करो
Anamika Singh
बचपन की यादें।
Anamika Singh
कोई मंझधार में पड़ा हैं
VINOD KUMAR CHAUHAN
Green Trees
Buddha Prakash
इंसानों की इस भीड़ में
Dr fauzia Naseem shad
जब जब ही मैंने समझा आसान जिंदगी को
सत्य कुमार प्रेमी
गीत
शेख़ जाफ़र खान
पर्यावरण
सूर्यकांत द्विवेदी
ये दूरियां मिटा दो ना
Nitu Sah
मृत्यु
AMRESH KUMAR VERMA
तुम्हे याद किये बिना सो जाऊ
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
Loading...