Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#12 Trending Author
May 24, 2022 · 1 min read

पिता का सपना

अपने बच्चों में
मैं अपना भविष्य
सजाता हूंँ,
अपने अधूरे सपने
पूरे करने की आस
संजोता हूंँ,
एक चमकदार पत्थर को
कोहिनूर की तरह
तराशता हूंँ,
उनका बढ़ना, पढ़ना, खेलना,
बड़े शिद्दत से
निहारता हूंँ,
कभी पड़ जाएँ बीमार,
उनके सिरहाने में पूरी रात,
गुजारता हूंँ,
याद आते पिताजी,
जिनका था मैं सपना, यह सोच खुद को
धिक्कारता हूंँ,
क्या पूरा किया उनका सपना?
मन में यह सवाल, बारम्बार
दुहराता हूंँ।

श्री रमण
बेगूसराय

14 Likes · 18 Comments · 161 Views
You may also like:
पापा मेरे पापा ॥
सुनीता महेन्द्रू
$गीत
आर.एस. 'प्रीतम'
🌺प्रेम की राह पर-45🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
फास्ट फूड
AMRESH KUMAR VERMA
💐कलेजा फट क्यूँ नहीँ गया💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मोहब्बत का समन्दर।
Taj Mohammad
*तजकिरातुल वाकियात* (पुस्तक समीक्षा )
Ravi Prakash
भूल जा - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
"स्नेह सभी को देना है "
DrLakshman Jha Parimal
# हे राम ...
Chinta netam " मन "
जाऊं कहां मैं।
Taj Mohammad
मैं हैरान हूं।
Taj Mohammad
✍️✍️तो सूर्य✍️✍️
"अशांत" शेखर
वसंत
AMRESH KUMAR VERMA
तीन शर्त"""'
Prabhavari Jha
धार्मिक उन्माद
Rakesh Pathak Kathara
पेड़ों का चित्कार...
Chandra Prakash Patel
Life through the window during lockdown
ASHISH KUMAR SINGH
अभी दुआ में हूं बद्दुआ ना दो।
Taj Mohammad
बाबू जी
Anoop Sonsi
तमन्नाओं का संसार
DESH RAJ
हमने किस्मत से आँखें लड़ाई मगर
VINOD KUMAR CHAUHAN
चिन्ता और चिता में अन्तर
Ram Krishan Rastogi
माटी
Utsav Kumar Aarya
खो गया है बचपन
Shriyansh Gupta
चिड़िया का घोंसला
DESH RAJ
' स्वराज 75' आजाद स्वतन्त्र सेनानी शर्मिंदा
jaswant Lakhara
कल भी होंगे हम तो अकेले
gurudeenverma198
मेरी खुशी तुमसे है
VINOD KUMAR CHAUHAN
मिलन की तड़प
Dr. Alpa H. Amin
Loading...