Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
May 15, 2022 · 1 min read

पिता का प्रेम

पिता का प्रेम दिखाई नहीं देता
क्योंकि वो ईश्वर की तरह ही होता,
पर दिखाई देती उनकी नसीहत,
कभी शूल सी लगती कभी फूल- सी
लेकिन राह सही हमको बताती
ऊपर से नारियल की भांति कठोर,
अंदर से धवल नरम रहते पिता की डांट,
दुलार और अधिकार,प्यार आशिर्वाद
हमें उन्नति के शिखर पर पहुंचाती
खुद दुख सह लेते पिता पर
हमारी खुशियों उनकी मुस्कान बन जाती
राह में चलते -चलते जब कभी ठोकर लगती
थाम कर हाथ पिता हमें फिर से चलना सिखाते
पुचकार कर गले लगाते,गलती पर माफ कर देते
मंजिल कैसे पहुंचे वो भी समझाते।
सीमा गुप्ता अलवर, राजस्थान

23 Likes · 18 Comments · 358 Views
You may also like:
रेशमी रुमाल पर विवाह गीत (सेहरा) छपा था*
Ravi Prakash
विदाई की घड़ी आ गई है,,,
Taj Mohammad
मन को मोह लेते हैं।
Taj Mohammad
🍀🌺प्रेम की राह पर-43🌺🍀
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
आजादी का जश्न
DESH RAJ
【19】 मधुमक्खी
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
देखो! पप्पू पास हो गया
संजीव शुक्ल 'सचिन'
यूं काटोगे दरख़्तों को तो।
Taj Mohammad
تیری یادوں کی خوشبو فضا چاہتا ہوں۔
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
दो जून की रोटी उसे मयस्सर
श्री रमण
संतुलन-ए-धरा
AMRESH KUMAR VERMA
मां-बाप
Taj Mohammad
जग के पिता
DESH RAJ
" महिलाओं वाला सावन "
Dr Meenu Poonia
यह चिड़ियाँ अब क्या करेगी
Anamika Singh
वक्त दर्पण दिखा दे तो अच्छा ही है।
Renuka Chauhan
बाबा की धूल
Dr. Arti 'Lokesh' Goel
नहीं बचेगी जल विन मीन
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
पहचान लेना तुम।
Taj Mohammad
रामपुर का इतिहास (पुस्तक समीक्षा)
Ravi Prakash
💐प्रेम की राह पर-27💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
तन-मन की गिरह
Saraswati Bajpai
टेढ़ी-मेढ़ी जलेबी
Buddha Prakash
पुस्तक समीक्षा- बुंदेलखंड के आधुनिक युग
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
जगत जननी है भारत …..
Mahesh Ojha
दर्द का अंत
AMRESH KUMAR VERMA
✍️मेरी कलम...✍️
"अशांत" शेखर
मिसाल (कविता)
Kanchan Khanna
✍️किसान के बैल की संवेदना✍️
"अशांत" शेखर
Loading...