Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
May 4, 2022 · 1 min read

पिता का प्यार

नहीं लगता मेरा डांटना तुझे अच्छा अब
नहीं भाता मेरा फिक्र करना तुझे
नही चाहिये तुझे अब रोका टोकी मेरी
कर नहीं सकता तेरे ज़माने जैसी बातें
नही आता मुझे परदेसी कपड़े पहनना
कर नहीं पाता हर इच्छा तेरी पूरी
नहीं दे सकता तेरे सुख की हर चीज
उम्मीद अब तुझे मुझसे कुछ नहीं है
मैं कौन हूँ यह बताने में शर्म तुझे थोड़ी आती है
मैं नहीं कहूंगा किसी से अपना सर्वस्य तुझे दिया है
तुझे देख देखकर जीता हूँ मेरे लाल
यह कहने में मुझे शरम नहीं है मेरे लाल
संसार में सबसे ज़्यादा प्यार करता हूँ तुझे

लेखक

प्रदीप कुमार नागरवाल
ग्राम पोस्ट बास्को है तहसील बस्सी जिला जयपुर

70 Views
You may also like:
आखिर क्यों... ऐसा होता हैं 
Dr. Alpa H. Amin
☆☆ प्यार का अनमोल मोती ☆☆
Dr. Alpa H. Amin
हौसला
Mahendra Rai
कोई हल नहीं मिलता रोने और रुलाने से।
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
शांति....
Dr. Alpa H. Amin
किस्मत की निठुराई....
डॉ.सीमा अग्रवाल
बगुले ही बगुले बैठे हैं, भैया हंसों के वेश में
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
✍️सिर्फ दो पल...दो बातें✍️
"अशांत" शेखर
बिछड़न [भाग ३]
Anamika Singh
पिता
Neha Sharma
लत...
Sapna K S
चलो जिन्दगी को।
Taj Mohammad
गुलमोहर
Ram Krishan Rastogi
💐 ग़ुरूर मिट जाएगा💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
✍️कोरोना✍️
"अशांत" शेखर
पितृ महिमा
मनोज कर्ण
छलके जो तेरी अखियाँ....
Dr. Alpa H. Amin
जून की दोपहर (कविता)
Kanchan Khanna
मौत ने की हमसे साज़िश।
Taj Mohammad
हिन्दी साहित्य का फेसबुकिया काल
मनोज कर्ण
"सुन नारी मैं माहवारी"
Dr Meenu Poonia
तुझे अपने दिल में बसाना चाहती हूं
Ram Krishan Rastogi
ये दूरियां मिटा दो ना
Nitu Sah
संस्मरण:भगवान स्वरूप सक्सेना "मुसाफिर"
Ravi Prakash
पिता
Saraswati Bajpai
आ सजाऊँ भाल पर चंदन तरुण
Pt. Brajesh Kumar Nayak
मदहोश रहे सदा।
Taj Mohammad
हे पिता,करूँ मैं तेरा वंदन
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
बदलती दुनिया
AMRESH KUMAR VERMA
चिड़िया का घोंसला
DESH RAJ
Loading...