Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#6 Trending Author
Jun 4, 2022 · 3 min read

पिता का दर्द

एक बेटी के लिए पिता सब कुछ होता है और एक पिता के लिए बेटी उसका दिल। जिसे पाने पर सबसे बड़ी खुशी मिलती है और जिससे बिछड़ने पर सबसे बड़ा दर्द। मेरी कविता “पिता का दर्द” लिख भले मै रही हूँ पर वह एहसास ,वह दर्द ,वह भाव मेरे पापा के है। जिन्होंने मुझे बेइंतिहा प्यार दिया है। –

जन्म हुआ था जब मेरा
सबसे ज्यादा पापा थे खुश ।
ऐसा बताते है हमें
घर के एक-एक सदस्य ।

सब रिश्तेदारों को पापा
खुश होकर बता रहे थे।
मेरे घर लक्ष्मी आई है
सबसे यह खुशी जता रहे थे।
सबको मिठाई लेकर अपने से
सबका आप मुँह मिठा करा रहे थे।

कभी किसी चीज की कमी
न बचपन में होने दिया था।
और आज भी तो पापा आप मेरे
हर जरूरत का ख्याल रखते है।
किसी भी चीज की मुझे कमी न हो,
आज भी तो मेरे पापा जरूरत से
ज्यादा चिंता करते है।

नाजों से पाला था मुझको
मेरे सारे सपनो को पुरा किया था।
भाइयों से भी ज्यादा कही
आपने मुझसे प्यार किया था।

पर मै जानती हूँ पापा
मुझे बड़े होते देखकर
आप खुशी तो जता रहे थे।
पर मन ही मन मुझसे दूर
होने के ख्याल से डर रहे थे।

कल जब शादी होकर यह
हमसे दूर चली जाएगी।
यह सोचकर आप कितना घबरा रहे थे।
अपने मन के डर को
हम सबसे आप छुपा रहे थे।

आखिर वह समय भी आया
जब मेरे लिए शादी का रिश्ता आया।
सब कुछ देख-सुन कर
आपने रिशते के लिए
हामी भर दी थी।
पर मुझसे दूर हो जाने का
डर आपको सता रहा था।

फिर भी पापा आपने शादी का
सारा रस्म खुशी- खुशी निभाया था।
कन्यादान खुद से नही कर
बुआ से करवाया था।
सारे बारतियों के सम्मान में
आपने कोई कसर न छोड़ा था।

कोई बिटियाँ को ससुराल में
कुछ न कहें
इसलिए आपने अपना सर्वस्य
हम पर लुटाया था।

फिर आई मेरी विदाई की घड़ी
सब रो रहे थे चारों तरफ।
मुझसे मिलवाने के लिए
लोग आपको ढूँढ रहे थे,
और आप थे पापा जो
घर के एक कोने में छिपकर
रो रहे थे।

मम्मी मुझे मिलवाने के लिए
आपके पास ला रही थी
और आप थे जो एक हाथ से
ना का इशारा करते हुए
पाँव मेरे तरफ बढ़ा रहे थे।

सच था न पापा आप अपना दर्द
हम सब से छुपा रहे थे।
सच तो यही था पापा
आप अपनी इस प्यारी बेटी को
विदा करने की हिम्मत नहीं
जुटा पा रहे थे।

जिसे नाजों से पाला था।
जिसकी हँसी में हँसा था।
जिसके सामने कभी दर्द
को न आने दिया था।
सच तो यह था पापा
आज उससे बिछड़ने के
दर्द को आप सह नही पा रहे थे।
और न ही मुझे आप दर्द में
देख पा रहे थे।

वह आज आपके घर से चली जाएगी।
यह सोचकर आप घबरा रहे थे।
आप अपना दर्द किसी के
सामने लाना नही चाह रहे थे।
इसलिए आप हम सबसे
छुपकर रोए जा रहे थे।

पापा मुझे आज भी याद है
आपके चेहरे का वह दर्द
जिसे आप मुझसे छुपा रहे थे,
आज भी तो पापा हर सुबह
जब आपका फोन आता है।

आपके दर्द का एहसास
आपके बातों मे आ जाता है।
जब आप कहते हो सब कुछ
ठीक है न।
और जब तक मेरे आवाज में
खुशी न झलक जाए ।
कहा आपके दिल को सकून मिलता है।

~अनामिका

5 Likes · 5 Comments · 167 Views
You may also like:
मतलब के रिश्ते
Anamika Singh
गुलामी के पदचिन्ह
मनोज कर्ण
भारतीय युवा
AMRESH KUMAR VERMA
✍️जंग टल जाये तो बेहतर है✍️
'अशांत' शेखर
मालूम था।
Taj Mohammad
धीरे-धीरे कदम बढ़ाना
Anamika Singh
हर एक रिश्ता निभाता पिता है –गीतिका
रकमिश सुल्तानपुरी
हौसले मेरे
Dr fauzia Naseem shad
ये दिल तेरी याद में
Dr fauzia Naseem shad
मेरे गाँव का अश्वमेध!
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
चेहरा
शिव प्रताप लोधी
इश्क का दरिया
Anamika Singh
जब जब ही मैंने समझा आसान जिंदगी को।
सत्य कुमार प्रेमी
“ पहिल सार्वजनिक भाषण ”
DrLakshman Jha Parimal
ग़ज़ल- फिर देखा जाएगा
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
साल नूतन तुम्हें प्रेम-यश-मान दे
Pt. Brajesh Kumar Nayak
अखंड भारत की गौरव गाथा।
Taj Mohammad
जोकर vs कठपुतली
bhandari lokesh
मेरे सपने
Anamika Singh
ख्वाब
Anamika Singh
महफिल में छा गई।
Taj Mohammad
फर्ज अपना-अपना
Prabhudayal Raniwal
वर्तमान से वक्त बचा लो:चतुर्थ भाग
AJAY AMITABH SUMAN
*संस्मरण : श्री गुरु जी*
Ravi Prakash
शादी
विनोद सिल्ला
*मंदिर पंडित दत्त राम (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
फास्ट फूड
Utsav Kumar Aarya
धरती की फरियाद
Anamika Singh
हर किसी में अदबो-लिहाज़ ना होता है।
Taj Mohammad
गीत//तुमने मिलना देखा, हमने मिलकर फिर खो जाना देखा।
Shiva Awasthi
Loading...