Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 May 2022 · 1 min read

पिता का दर्द

एक बात बताओ ऐ खुदा
पूछ रहा है एक पिता
ये कैसा युग आया हैं
जो एक कुआं सबको पिलाता था
आज ओ दो मिठीं बोल के लिए तरस जाता है

धर्म वहीं हैं,कर्म वहीं हैं
तू भी वहीं हैं , इंसान भी वहीं हैं
फिर ये कैसा शिष्टाचार संतानों में आया है
कि जो कभी जन्मों-जन्मों के साथी थें, आज उनके अंश ही बागवान चलचित्र घर मे दोहराया है

जिसने सींची ज़मीं, जिसने डालीं बीज
जिसने ईंट बनाईं, जिसने डालीं नींव
उसी का दुनिया अब उसी का नहीं
फिर ये कैसा मोह-माया हैं
एक छत के नीचे रहकर पिता को बेटा भूलाया हैं

इस युग का बेटा, बांट रहा हैं आधी उम्र , महीनों में
हर एक रूपए का खर्च पिता का रखता हैं हिसाबों में
आखिर ये कैसा लहर घर-घर छाया हैं
आज कल पिता पे परिभाषा ‘कलयुग का बेटा’ इंटरनेट पे सब को हंस-हंसकर सुनाता है।।
नीतू साह
हुसेना बंगरा,सीवान-बिहार

Language: Hindi
Tag: कविता
6 Likes · 9 Comments · 255 Views
You may also like:
दरारों से।
Taj Mohammad
"वो पीला बल्ब"
Dr Meenu Poonia
प्रात का निर्मल पहर है
मनोज कर्ण
प्रार्थना
Anamika Singh
२४३. "आह! ये आहट"
MSW Sunil SainiCENA
# पिता ...
Chinta netam " मन "
हाथ माखन होठ बंशी से सजाया आपने।
लक्ष्मी सिंह
आनंद अपरम्पार मिला
श्री रमण 'श्रीपद्'
"शिवाजी गुरु समर्थ रामदास स्वामी"✨
Pravesh Shinde
ढूंढते हैं मगर न जाने क्यों
Dr fauzia Naseem shad
माँ अन्नपूर्णा
Shashi kala vyas
सोचता हूं कैसे भूल पाऊं तुझे
Er.Navaneet R Shandily
“ अरुणांचल प्रदेशक “ सेला टॉप” “
DrLakshman Jha Parimal
पिता हैं छाँव जैसे
अंकित शर्मा 'इषुप्रिय'
✍️निज़ाम✍️
'अशांत' शेखर
कहानियां
Alok Saxena
दो शरारती गुड़िया
Prabhudayal Raniwal
जहां पर रब नही है
अनूप अंबर
अरि ने अरि को
bhavishaya6t
जन्नत -ए - इश्क
Seema 'Tu hai na'
गंगा अवतरण
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
क्या प्रात है !
Saraswati Bajpai
मेरी प्रिय कविताएँ
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
शिक्षक (कुंडलिया )
Ravi Prakash
* सृजक *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
एहसास-ए-हक़ीक़त
Shyam Sundar Subramanian
'कृषि' (हरिहरण घनाक्षरी)
Godambari Negi
कारण के आगे कारण
सूर्यकांत द्विवेदी
मुहब्बत का मसीहा
Shekhar Chandra Mitra
इंसाफ के ठेकेदारों! शर्म करो !
ओनिका सेतिया 'अनु '
Loading...