Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

पिता और एफडी

1
पिता पूंजी है
एफडी है
पीएफ है
ड्राफ्ट है
ग्रेच्युटी है
जो सब हमे
बनाने में लगती है
उसके पास होती
है सिर्फ पेंशन
बुढ़ापे की टेंशन।
2
मां घर है ..
पिता मकान
खेत खलिहान
औलाद के हाथों में
भविष्य का सामान।
3
पिता अनुशासन है
चुपचाप चलने वाला
शासन है..
जब हम कुछ नही
कह पाते
वो आंखे पढ़ लेता है
पर्स खोल देता है।।

4
पिता बीज है
अंकुर है
दिखता नहीं
न हो यदि
कोई खिलता नहीं।
5
पिता शाख है
साख है..
फैलता है
महकता है।।
6
पिता गुप्त प्रेम है
जब सो जाते हैं
उसके अंश
वह चुपके से आता है
अपलक देखता है..
निहारता है..
चमक जाती हैं उसकी
आँखें…हाँ…वाह
अपना अंश है।
वह बेटी का दहेज
बेटे का कैरियर है
वह पैदा नही करता
न दूध पिलाता है..
मगर..
सबको पालता है।।

सूर्यकान्त द्विवेदी

5 Likes · 4 Comments · 68 Views
You may also like:
Colourful Balloons
Buddha Prakash
बेबस पिता
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
THANKS
Vikas Sharma'Shivaaya'
बेरोज़गारों का कब आएगा वसंत
Anamika Singh
*"पिता"*
Shashi kala vyas
💐 निगोड़ी बिजली 💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
बरसात आई है
VINOD KUMAR CHAUHAN
【1】*!* भेद न कर बेटा - बेटी मैं *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
I Can Cut All The Strings Attached
Manisha Manjari
रामायण आ रामचरित मानस मे मतभिन्नता -खीर वितरण
Rama nand mandal
When I missed you.
Taj Mohammad
हम इतने भी बुरे नही,जितना लोगो ने बताया है
Ram Krishan Rastogi
*!* सोच नहीं कमजोर है तू *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
व्यक्तिवाद की अजीब बीमारी...
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
मोहब्बत में।
Taj Mohammad
हरिगीतिका
शेख़ जाफ़र खान
जीवन-दाता
Prabhudayal Raniwal
रोज हम इम्तिहां दे सकेंगे नहीं
Dr Archana Gupta
" जीवित जानवर "
Dr Meenu Poonia
✍️किस्मत ही बदल गयी✍️
"अशांत" शेखर
परछाई से वार्तालाप
Ram Krishan Rastogi
सुबह आंख लग गई
Ashwani Kumar Jaiswal
नाशवंत आणि अविनाशी
Shyam Sundar Subramanian
अपने मन की मान
जगदीश लववंशी
कोई चाहने वाला होता।
Taj Mohammad
गरम हुई तासीर दही की / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मोहब्बत की बातें।
Taj Mohammad
सारी दुनिया से प्रेम करें, प्रीत के गांव वसाएं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
दोहे
सूर्यकांत द्विवेदी
✍️"अग्निपथ-३"...!✍️
"अशांत" शेखर
Loading...