Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Apr 2022 · 1 min read

पिता अब बुढाने लगे है

फलक पे जो देखो ढलकते रवि को
नजर मे ले आना पिता की छवि को
बहोत दिन हुए है तुम्हे घर को आये
तुम्हे काम के सौ बहाने लगे हैं
तुम्हारे पिता अब बुढाने लगे है

मेरे फोन की जब भी बजती है घंटी
चहलकदमीयाँ करते है पास आकर
जब सुनते है “पापा को कहना नमस्ते”
भीगी आँखो से, हाथों को थोड़ा उठाकर
अपनी आशिष मे रामरक्षा मिलाकर
होठों ही होठों मे बुदबुदाने लगे है
तुम्हारे पिता अब बुढाने लगे है

न पढने पे, जो बल्ला तोडा गया था
लिये हाथों में बैठे रहते है घंटो
न पढ़ते है अब गोर्की, टाॅलस्टाय
तुम्हारी दराजों से ढूंढा है मंटो
नाम सुनते ही जिसका वो गुस्सा हुए थे
कहानी वो पढकर सुनाने लगे है
तुम्हारे पिता अब बुढाने लगे है

तुम्हे याद है चिठ्ठी पकडी थी जिस दिन
फलसफ़े ज़िन्दगी के तुम्हे थे पढ़ाये
मगर जानती थी मैं आँखो में उनकी
उतर आये थे उनके माज़ी के साये
जमाने से लड़, जबसे तुमको जीताया
मोहब्बत भरे गीत गाने लगे है
तुम्हारे पिता अब बुढाने लगे है
भले एक दिन के लिये ही जो आओ
नज़ाकत से उनकी कलाई पकड़ना
बढ़ी आजकल उनकी दाढ़ी मिलेगी
उसपे गालों को बचपन के जैसे रगड़ना
न बोले मगर दे ही देना सहारा
वो चलते हुए डगमगाने लगे है
तुम्हारे पिता अब बुढाने लगे हैं

Language: Hindi
Tag: कविता
9 Likes · 5 Comments · 218 Views
You may also like:
मुहब्बत क्या है
shabina. Naaz
परिवाद झगड़े
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मेहनत का फल ।
Nishant prakhar
जीवन मे एक दिन
N.ksahu0007@writer
सुना है।
Taj Mohammad
बच्चे थिरक रहे हैं आँगन।
लक्ष्मी सिंह
The Magical Darkness
Manisha Manjari
*मेरे देश का सैनिक*
Prabhudayal Raniwal
अख़बारों में क्या रखा है?
Shekhar Chandra Mitra
रिश्ते-नाते
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
” विषय ..और ..कल्पना “
DrLakshman Jha Parimal
मुझसा प्यार नहीं मिलेगा
gurudeenverma198
हक़ीक़त न पूछिए
Dr fauzia Naseem shad
इंसानी दिमाग
विजय कुमार अग्रवाल
[ कुण्डलिया]
शेख़ जाफ़र खान
कर कर के प्रयास अथक
कवि दीपक बवेजा
कहो‌ नाम
Varun Singh Gautam
ध्यान
विशाल शुक्ल
✍️अग्निपथ...अग्निपथ...✍️
'अशांत' शेखर
🙏माँ कूष्मांडा🙏
पंकज कुमार कर्ण
💐साधकस्य निष्ठा एव कल्याणकर्त्री💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
बेड़ियाँ
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
बिल्ली हारी
Jatashankar Prajapati
*लेते प्रभु अवतार* 【 _कुंडलिया_ 】
Ravi Prakash
भाये ना यह जिंदगी, चाँद देखे वगैर l
अरविन्द व्यास
पिता
Neha Sharma
अंतर्मन
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
माँ का एहसास
Buddha Prakash
पानी
Vikas Sharma'Shivaaya'
जिस्म खूबसूरत नहीं होता
गायक और लेखक अजीत कुमार तलवार
Loading...