Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Apr 17, 2022 · 1 min read

पिता अब बुढाने लगे है

फलक पे जो देखो ढलकते रवि को
नजर मे ले आना पिता की छवि को
बहोत दिन हुए है तुम्हे घर को आये
तुम्हे काम के सौ बहाने लगे हैं
तुम्हारे पिता अब बुढाने लगे है

मेरे फोन की जब भी बजती है घंटी
चहलकदमीयाँ करते है पास आकर
जब सुनते है “पापा को कहना नमस्ते”
भीगी आँखो से, हाथों को थोड़ा उठाकर
अपनी आशिष मे रामरक्षा मिलाकर
होठों ही होठों मे बुदबुदाने लगे है
तुम्हारे पिता अब बुढाने लगे है

न पढने पे, जो बल्ला तोडा गया था
लिये हाथों में बैठे रहते है घंटो
न पढ़ते है अब गोर्की, टाॅलस्टाय
तुम्हारी दराजों से ढूंढा है मंटो
नाम सुनते ही जिसका वो गुस्सा हुए थे
कहानी वो पढकर सुनाने लगे है
तुम्हारे पिता अब बुढाने लगे है

तुम्हे याद है चिठ्ठी पकडी थी जिस दिन
फलसफ़े ज़िन्दगी के तुम्हे थे पढ़ाये
मगर जानती थी मैं आँखो में उनकी
उतर आये थे उनके माज़ी के साये
जमाने से लड़, जबसे तुमको जीताया
मोहब्बत भरे गीत गाने लगे है
तुम्हारे पिता अब बुढाने लगे है
भले एक दिन के लिये ही जो आओ
नज़ाकत से उनकी कलाई पकड़ना
बढ़ी आजकल उनकी दाढ़ी मिलेगी
उसपे गालों को बचपन के जैसे रगड़ना
न बोले मगर दे ही देना सहारा
वो चलते हुए डगमगाने लगे है
तुम्हारे पिता अब बुढाने लगे हैं

8 Likes · 5 Comments · 95 Views
You may also like:
स्वर्गीय रईस रामपुरी और उनका काव्य-संग्रह एहसास
Ravi Prakash
*!* दिल तो बच्चा है जी *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
स्वयं में एक संस्था थे श्री ओमकार शरण ओम
Ravi Prakash
आह! 14 फरवरी को आई और 23 फरवरी को चली...
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
ममता की फुलवारी माँ हमारी
Dr. Alpa H. Amin
काश बचपन लौट आता
Anamika Singh
अन्तर्मन ....
Chandra Prakash Patel
वो
Shyam Sundar Subramanian
श्री राम ने
Vishnu Prasad 'panchotiya'
✍️स्टेचू✍️
"अशांत" शेखर
जा बैठे
सिद्धार्थ गोरखपुरी
उसकी मासूमियत
VINOD KUMAR CHAUHAN
योग तराना एक गीत (विश्व योग दिवस)
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मेरे पापा...
मनमोहन लाल गुप्ता अंजुम
जिंदगी या मौत? आपको क्या चाहिए?
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
सत्य छिपता नहीं...
मनोज कर्ण
अक्षय तृतीया की हार्दिक शुभकामनाएं
sheelasingh19544 Sheela Singh
सतुआन
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
Destined To See A Totally Different Sight
Manisha Manjari
चलो एक पत्थर हम भी उछालें..!
मनोज कर्ण
💐उत्कर्ष💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
महापंडित ठाकुर टीकाराम
श्रीहर्ष आचार्य
नन्हा बीज
मनोज कर्ण
💐 माये नि माये 💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
यादें
Sidhant Sharma
माँ गंगा
Anamika Singh
गीत
शेख़ जाफ़र खान
गम आ मिले।
Taj Mohammad
पितृ ऋण
Shyam Sundar Subramanian
अमर काव्य हर हृदय को, दे सद्ज्ञान-प्रकाश
Pt. Brajesh Kumar Nayak
Loading...