Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Apr 29, 2022 · 1 min read

पापा

समुद्र से मोती, आसमां से तारें।
ढुंढ के ला दो चांद सितारे।।
ओ मेरे पापा ओ मेरे पापा
देख रहीं हु राह तुम्हारे।
अब आ भी जाओ पापा हमारे।।
ओ मेरे पापा ओ मेरे पापा
ना करू मैं शैतानी,ना करूं मैं मनमानी।
तेरे सिवा मैं और किसी से ना मानूं।।
ओ मेरे पापा ओ मेरे पापा
मैं तेरी हूं गुड़िया,तु मेरा है पापा।
जग में है न्यारा , रिश्ता अनोखा।।
ओ मेरे पापा ओ मेरे पापा
माफ भी कर दो अब गलती हमारी।
फिर से ना होगी ये नदानी हमारी।।
ओ मेरे पापा ओ मेरे पापा

नीतू साह सिवान

4 Likes · 2 Comments · 102 Views
You may also like:
मैं तो सड़क हूँ,...
मनोज कर्ण
टूटे बहुत है हम
D.k Math
एक बात... पापा, करप्शन.. लेना
Nitu Sah
हम कहाँ लिख पाते 
Dr. Alpa H. Amin
चल-चल रे मन
Anamika Singh
आज के नौजवान
DESH RAJ
पिता की याद
Meenakshi Nagar
कलम की वेदना (गीत)
सूरज राम आदित्य (Suraj Ram Aditya)
मौसम यह मोहब्बत का बड़ा खुशगवार है
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
" कोरोना "
Dr Meenu Poonia
चाय की चुस्की
श्री रमण
माँ की परिभाषा मैं दूँ कैसे?
Jyoti Khari
" महिलाओं वाला सावन "
Dr Meenu Poonia
गांव शहर और हम ( कर्मण्य)
Shyam Pandey
✍️ये अज़ीब इश्क़ है✍️
"अशांत" शेखर
मुफ्तखोरी की हुजूर हद हो गई है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
डरता हूं
dks.lhp
माहौल
AMRESH KUMAR VERMA
"चैन से तो मर जाने दो"
रीतू सिंह
बच्चों को खूब लुभाते आम
Ashish Kumar
हंँसना तुम सीखो ।
Buddha Prakash
गीत
शेख़ जाफ़र खान
एक ख़्वाब।
Taj Mohammad
# जीत की तलाश #
Dr. Alpa H. Amin
पिता क्या है?
Varsha Chaurasiya
पिता का दर्द
Nitu Sah
गृहस्थ संत श्री राम निवास अग्रवाल( आढ़ती )
Ravi Prakash
पुस्तकें
डॉ. शिव लहरी
आत्महत्या क्यों ?
Anamika Singh
बदलती परम्परा
Anamika Singh
Loading...