Nov 15, 2021 · 1 min read

पिता

पिता

बचपन में उँगली पकड़वाकर,
सही चलना हमें सिखाते हैं ।
गिर जाए अगर हम कभी,
उठा फिर प्यार से गले लगाते हैं।

जिसके छाएँ में पलते हैं हम,
हमारे हर धूप को वो सह जाते हैं
स्वयं से अटूट बन्धन में बाँधकर,
वो हमें दुनिया की रीत समझाते हैं।

डरो न कभी समस्याओं से,
जो हरदम हमें सिखाते हैं।
संघर्ष करो और जीतो दुनिया,
संघर्ष से पहचान करवाते हैं।

नहीं सोते हैं रात भर खुद,
थपकियाँ देकर हमें सुलाते हैं।
हो जाती हैं जगे हुए ही सुबह,
बच्चे हेतु योजना जब बनाते हैं ।

नहीं मिले उनकी तरह कोई,
हम हरदम यही दुहराते हैं।
कर देते हैं न्योछावर जिंदगी,
वहीं पिता परमेश्वर कहलाते हैं।

माँ-सा ममता पिता-सा प्यार नहीं कहीं,
हम अबतक जीवन में यही तो पाते हैं।
मोम-सा दिल होता हैं उनलोगों का,
पर लोहा बनकर जीना हमे सिखाते हैं।

✍️✍️✍️खुश्बू खातून

5 Likes · 4 Comments · 269 Views
You may also like:
मौत बाटे अटल
आकाश महेशपुरी
उसूल
Ray's Gupta
*जिंदगी को वह गढ़ेंगे ,जो प्रलय को रोकते हैं*( गीत...
Ravi Prakash
हाल ए इश्क।
Taj Mohammad
लौट आई जिंदगी बेटी बनकर!
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
समय के पंखों में कितनी विचित्रता समायी है।
Manisha Manjari
*!* कच्ची बुनियाद *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
चढ़ता पारा
जगदीश शर्मा सहज
माँ की महिमाँ
Dr. Alpa H.
सोचता रहता है वह
gurudeenverma198
एक मजदूर
Rashmi Sanjay
एक जंग, गम के संग....
Aditya Prakash
【21】 *!* क्या आप चंदन हैं ? *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
बेवफाओं के शहर में कुछ वफ़ा कर जाऊं
Ram Krishan Rastogi
प्रकाशित हो मिल गया, स्वाधीनता के घाम से
Pt. Brajesh Kumar Nayak
हसद
Alok Saxena
The Sacrifice of Ravana
Abhineet Mittal
तितली सी उड़ान है
VINOD KUMAR CHAUHAN
महाकवि नीरज के बहाने (संस्मरण)
Kanchan Khanna
आपातकाल
Shriyansh Gupta
स्थापना के 42 वर्ष
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
जीवन-दाता
Prabhudayal Raniwal
चुप ही रहेंगे...?
मनोज कर्ण
Love Heart
Buddha Prakash
हमें तुम भुल गए
Anamika Singh
राम के जन्म का उत्सव
Manisha Manjari
प्रार्थना
Anamika Singh
अनजान बन गया है।
Taj Mohammad
वह खूब रोए।
Taj Mohammad
खींच तान
Saraswati Bajpai
Loading...