Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

पापा मेरे पापा ॥

पापा शब्द नही मेरे पास बयां करने को, आप के लिए,
सारी खुशियाँ मिल सके मुझे, इसी कोशिश मे लगे रहते हो आप,
देख कर विश्वास मुझपर, करीब पाती हूँ मैं मंजिल अपनी,

पापा शब्द नही मेरे पास बयां करने को, आप के लिए,
उंगली पकड़ कर सिखलाया चलना, हर क़दम पर दिया साथ मेरा,
आंसू भी मोती बन जाते मेरे, जब होते आप मेरे साथ ।

पापा शब्द नही मेरे पास बयां करने को, आप के लिए,
सिखाये मायने संघर्ष और सफलताओं के,
बताया अंतर शिष्टाचार, मानवता और नैतिकता में।

पापा शब्द नही मेरे पास बयां करने को, आप के लिए,
बिन बोले ही समझ जाते आप मेरी परेशानियाँ को,
डगमगा जाए कदम तो थाम लेते हो मेरा हाथ ।

पापा शब्द नही मेरे पास बयां करने को, आप के लिए,
माँ है ताकत मेरी, आप हो गुरूर मेरा,
अभिभान है आपकी दी हुई परवरिश पर ।

पापा शब्द नही मेरे पास बयां करने को, आप के लिए,
असमंजस के पलों में, संयम सिखाया आपने
आप है ईश्वर की मूरत आपके साये में, मिलता आत्मविश्वास…!!!!

पापा शब्द नही मेरे पास बयां करने को, आप के लिए,
शौहरत है अधूरी आपके बिना,
मैं तो हूँ डाल उस वृक्ष की जिसको सींचा आपने अपने खून-पसीने से ।

पापा शब्द नही मेरे पास बयां करने को, आप के लिए,
सारी खुशियाँ मिल सके मुझे, इसी कोशिश मे लगे रहते हो आप,
पापा मेरे पापा ॥

सुनीता महेंद्रू
बैंकॉक( थाईलैंड)

5 Likes · 5 Comments · 225 Views
You may also like:
पिता हिमालय है
जगदीश शर्मा सहज
तिरंगा मेरी जान
AMRESH KUMAR VERMA
Only Love Remains
Manisha Manjari
दिलदार आना बाकी है
Jatashankar Prajapati
कोशिश करो
Dr fauzia Naseem shad
तितली रानी (बाल कविता)
Anamika Singh
कविता की महत्ता
Rj Anand Prajapati
मेरा गुरूर है पिता
VINOD KUMAR CHAUHAN
ये दिल मेरा था, अब उनका हो गया
Ram Krishan Rastogi
अद्भभुत है स्व की यात्रा
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
जी हाँ, मैं
gurudeenverma198
हाइकु: आहार।
Prabhudayal Raniwal
हायकु मुक्तक-पिता
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
सत्य कभी नही मिटता
Anamika Singh
बद्दुआ गरीबों की।
Taj Mohammad
*रठौंडा मन्दिर यात्रा*
Ravi Prakash
✍️KITCHEN✍️
"अशांत" शेखर
देव शयनी एकादशी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
बुद्ध पूर्णिमा पर मेरे मन के उदगार
Ram Krishan Rastogi
अब हमें तुम्हारी जरूरत नही
Anamika Singh
शब्दों से परे
Mahendra Rai
मेरी लेखनी
Anamika Singh
प्रकृति
Pt. Brajesh Kumar Nayak
भूल कैसे हमें
Dr fauzia Naseem shad
हम भी नज़ीर बन जाते।
Taj Mohammad
*** वीरता
Prabhavari Jha
पिता
Vandana Namdev
ये दिल टूटा है।
Taj Mohammad
ये दूरियां मिटा दो ना
Nitu Sah
शहरों के हालात
Ram Krishan Rastogi
Loading...