Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Jun 4, 2022 · 1 min read

पापा करते हो प्यार इतना ।

पापा तुम मुझको,
इतना प्यार करते हो,
मम्मी से भी ज्यादा,
मेरा ध्यान रखते हो ।

दिन-दिन भर मेहनत करके,
मेरी जिद पर खिलौना लाते हो,
मेरे रूठ जाने पर तुम,
अपनी गाढ़ी कमाई लुटाते हो ।

चलने पर अगर गिरने लगता,
उंँगली झट से थाम लेते हो,
थक ना जाए मेरे नन्हें पैर,
अपने कंधों में बैठाकर घुमाते हो ।

इतना लाड-प्यार दिखाते हो ,
मेरी शरारत पर मुस्कुराते हो ,
अगर नजरों से ओझल हो जाऊंँ,
घर पर सब की डांँट लगाते हो ।

यदि आती कोई मुसीबत पास ,
आप ही रक्षक बन जाते हो ,
कहीं काट न ले एक मच्छर ,
खुद की नींद गवाँते हो ।

रचनाकार –
बुद्ध प्रकाश ,
मौदहा हमीरपुर ।

7 Likes · 6 Comments · 251 Views
You may also like:
अपने दिल को ही
Dr fauzia Naseem shad
पिता
Buddha Prakash
✍️कोई नहीं ✍️
Vaishnavi Gupta
फेसबुक की दुनिया
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
श्रम पिता का समाया
शेख़ जाफ़र खान
मैं कुछ कहना चाहता हूं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पिता है भावनाओं का समंदर।
Taj Mohammad
बरसात की झड़ी ।
Buddha Prakash
कोई खामोशियां नहीं सुनता
Dr fauzia Naseem shad
पिता एक विश्वास - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
पिता का आशीष
Prabhudayal Raniwal
सपना आंखों में
Dr fauzia Naseem shad
अपनी आदत में
Dr fauzia Naseem shad
आंखों पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
इस तरह
Dr fauzia Naseem shad
तू कहता क्यों नहीं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पिता
Shankar J aanjna
समसामयिक बुंदेली ग़ज़ल /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
झरने और कवि का वार्तालाप
Ram Krishan Rastogi
विश्व फादर्स डे पर शुभकामनाएं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मैं तो सड़क हूँ,...
मनोज कर्ण
कुछ नहीं
Dr fauzia Naseem shad
और जीना चाहता हूं मैं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
"वो पिता मेरे, मै बेटी उनकी"
रीतू सिंह
हमें क़िस्मत ने आज़माया है ।
Dr fauzia Naseem shad
रात तन्हा सी
Dr fauzia Naseem shad
माँ, हर बचपन का भगवान
Pt. Brajesh Kumar Nayak
नदी बन जा तू
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
दिल में भी इत्मिनान रक्खेंगे ।
Dr fauzia Naseem shad
पिता
Deepali Kalra
Loading...