Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
May 16, 2022 · 1 min read

पापा आप बहुत याद आते हो।

पापा आप,
बहुत याद आते हो।
आपका अनुभव करता हुं,
पर छूने से ओझल हो जाते हो।।

आपका स्थान,
कोई ले सकता नही।
मेरे चेहरे को आप जैसा,
कोई पढ़ सकता नही।।

जाने कैसे आप,
पहले ही समझ जाते थे।
मेरे बताने से पूर्व ही,
सब जान जाते थे।।

पापा,
मैं विपत्ति से ना लड़ पाता हूं।
आपको,
हर पल याद करता हुं।।

मेरी आंखो से,
आंसू नीर बनके बहते है।
अब तन्हा,
चुपचाप हम रहते है।।

आपके जाने से,
मुझमें निडरता ना रही।
किसी परेशानी से,
लड़ने की क्षमता ना रही।।

आपकी प्रत्येक बात,
मुझे बहुत याद आती है।
मुझको खींचकर,
अतीत के झरोखों में ले जाती है।।

स्वर्ग सा अपना घर था,
देवता थे आप उसके।
हर आदत आपकी ले ली है,
फिर भी ना बन पाये आप जैसे।।

सांसे तो चल रहीं है,
पर इनमे रवानी ना बची है।
मुस्कुराए हुए अरसा हुआ,
जीवन में खुशियां ना रही हैं।।

आधे सफर में पापा,
क्यों मुझको छोड़कर गए हो।
जीवन मेरा,
क्यों यूं वीरान कर गए हो।।

एक आपके ही रिश्ते में,
कोई स्वार्थ ना दिखता था।
आपके होने से,
मैं हमेशा बचपन को जीता था।।

आपके होने से,
मुझमें सामर्थ रहता था।
आपके मुझपे विश्वास से,
मैं खुदको बलवान समझता था।।

अब तो विपत्तियों से,
मुझको डर लगता है।
पापा आपके बगैर,
जैसे मुझपे जग हंसता है।।

पापा आप,
बहुत याद आते हो।
आपका अनुभव करता हुं,
पर छूने से ओझल हो जाते हो।।

ताज मोहम्मद
लखनऊ

2 Likes · 4 Comments · 146 Views
You may also like:
गीत- अमृत महोत्सव आजादी का...
डॉ.सीमा अग्रवाल
గురువు
Vijaykumar Gundal
दर्द और विश्वास
Anamika Singh
मजदूर हूॅं साहब
Deepak Kohli
मत भूलो देशवासियों.!
Prabhudayal Raniwal
चलो प्रेम का दिया जलायें
rkchaudhary2012
मीठी-मीठी बातें
AMRESH KUMAR VERMA
'हे सबले!'
Godambari Negi
याद भी तुमको हम
Dr fauzia Naseem shad
✍️यही तो आखिर सच है...!✍️
'अशांत' शेखर
*भक्त प्रहलाद और नरसिंह भगवान के अवतार की कथा*
Ravi Prakash
हर घर तिरंगा
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
*हास्य-रस के पर्याय हुल्लड़ मुरादाबादी के काव्य में व्यंग्यात्मक चेतना*
Ravi Prakash
पिता एक विश्वास - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
"लेखनी "
DrLakshman Jha Parimal
पिता का सपना
श्री रमण 'श्रीपद्'
✍️इंतज़ार के पल✍️
'अशांत' शेखर
✍️कथासत्य✍️
'अशांत' शेखर
महाराष्ट्र में सत्ता परिवर्तन
Ram Krishan Rastogi
पीकर जी भर मधु-प्याला
श्री रमण 'श्रीपद्'
✍️जिंदगी का फ़लसफ़ा✍️
'अशांत' शेखर
मैं हासिल नही हूं।
Taj Mohammad
आब अमेरिकामे पढ़ता दिहाड़ी मजदूरक दुलरा, 2.5 करोड़ के भेटल...
श्रीहर्ष आचार्य
शायद मैं गलत हूँ...
मनोज कर्ण
पुस्तक समीक्षा -'जन्मदिन'
Rashmi Sanjay
बहुमत
मनोज कर्ण
घर-घर लहराये तिरंगा
Anamika Singh
एकाकीपन
Rekha Drolia
" भेड़ चाल कहूं या विडंबना "
Dr Meenu Poonia
युवकों का निर्माण चाहिए
Pt. Brajesh Kumar Nayak
Loading...