Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Apr 2022 · 2 min read

पापा आपकी बहुत याद आती है !

●पापा आपकी
बहुत याद आती है
हर पल आपकी
कमी खलती है
आपकी याद
बड़ा सताती हैं
पापा आपकी
बहुत याद आती है।

•करना हो जब
भी नया काम
आपकी सलाह
आदेश ,इच्छा
की जरूरत
हमेशा लगती है
आपके जैसी
राय ,न कोई
दे पाता है,
और न मेरे
मस्तिष्क में
आती है
पापा आपकी
बहुत याद आती है।

•जाता हूँ जब
भी घर से
दूर कहीं
बस स्टैंड
तक छोड़ना
पहुंचने से
पहले दो-चार
बार फोन करना
कहना ,बेटा
पहूंच कर फोन
जरूर करना
हो जाता जब
भी लेट कभी
बार बार फोन
कर पूंछना
बेटा कहाँ तक
पहुंचे, अब तो
जल्दी जाता हूँ,
देर रात आता हूँ
रास्ते मे आती
हर रिंग , आपके
फोन सी लगती है
पापा आपकी
बहुत याद आती है।

•पहले आप
के समय क्या
दिन थे वो
बोलने से पहले
ही सारी जरूरतें
पूरी हो जाती थीं
आप फटी बनियान
में महीनों निकाल
देते थे, हमें
खर्चे का कभी
अहसास नहीं
होने देते थे,
आज जब
खुद कमाता हूँ
खर्च करने से
पहले चार बार
सोचता हूँ ,
सही कहते थे
लोग आज
अहसास होता है
शौक तो केवल
पिताजी की कमाई
से पूरे होते हैं
अपनी कमाई से
तो खर्चे बमुश्किल
पूरे होते हैं
आज आपकी हर
डांट की सच्चाई
दिखाई देती है
पापा आपकी
बहुत याद आती है।

पापा जब हर साल,
करवा चौथ आती है।
माँ आपके नाम,
निर्जला व्रत रखती है।
आपकी फोटो ,
चलनी से देख माँ,
अश्रु रोक न पाती है।
पापा आपकी
बहुत याद आती है।
पापा आपकी
बहुत याद आती है।
पापा आपकी
बहुत याद आती है।

-जारी
-©कुलदीप मिश्रा

Language: Hindi
Tag: कविता
8 Likes · 7 Comments · 835 Views
You may also like:
ఎందుకు ఈ లోకం పరుగెడుతుంది.
विजय कुमार 'विजय'
वो मुझे
Dr fauzia Naseem shad
सच्चा आनंद
दशरथ रांकावत 'शक्ति'
Rainbow (indradhanush)
Nupur Pathak
🍀🐦तुम्हारा हर हर्फ़ मलंग सा🐦🍀
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
निभाना ना निभाना उसकी मर्जी
कवि दीपक बवेजा
शुभ करवा चौथ
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
✍️और शिद्दते बढ़ गयी है...
'अशांत' शेखर
देव शयनी एकादशी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
संडे की व्यथा
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
आज का विकास या भविष्य की चिंता
Vishnu Prasad 'panchotiya'
सितम देखते हैं by Vinit Singh Shayar
Vinit kumar
विभिन्न पत्नियों के विभिन्न वार्तालाप अपने प्रिय पतियों के साथ
Ram Krishan Rastogi
कविता 100 संग्रह
श्याम सिंह बिष्ट
मैं तो सड़क हूँ,...
मनोज कर्ण
तुझे मतलूब थी वो रातें कभी
Manoj Kumar
लेखनी
Anamika Singh
कोई तो है कहीं पे।
Taj Mohammad
ठोडे का खेल
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पापा
Kanchan Khanna
सट्टेबाज़ों से
Suraj kushwaha
गुजरात माडल ध्वस्त
Shekhar Chandra Mitra
जनसेवा हित कल्पतरु, बना आपका ट्रस्ट
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
आज काल के नेता और उनके बेटा
Harsh Richhariya
*उनका सठियाना (व्यंग्य)*
Ravi Prakash
"गर्वित नारी"
Dr Meenu Poonia
क्या क्या कह दिया मैंने
gurudeenverma198
पिता हिमालय है
जगदीश शर्मा सहज
वीरों को युद्ध आह्वान.....
Aditya Prakash
Loading...