Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

“पानी बरसा”

पानी बरसा रिमझिम रिमझिम
क्यों बैठे हो? गुमसुम-गुमसुम
बहते पानी की धारा को
यहां वहां हम मोड़ेगे
कागज की इक नाव बनाकर
बीच धार में छोड़ेंगे
और उसी के पीछे पीछे
दूर-दूर तक दौड़ेगे
आभी जाओ घर के बाहर
भीगे हम हम भीगे तुम तुम
पानी बरसा रिमझिम रिमझिम
क्यों बैठे हो? गुमसुम गुमसुम
====================

5 Likes · 4 Comments · 313 Views
You may also like:
समय..
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
यह इश्क है।
Taj Mohammad
वही ज़िंदगी में
Dr fauzia Naseem shad
पति पत्नी की नोक झोंक(हास्य व्यंग)
Ram Krishan Rastogi
कब मेरी सुधी लोगे रघुराई
Anamika Singh
✍️थोडा रूमानी हो जाते...✍️
'अशांत' शेखर
अम्मा जी
Rashmi Sanjay
ए- वृहत् महामारी गरीबी
AMRESH KUMAR VERMA
मन को मोह लेते हैं।
Taj Mohammad
जिन्दगी रो पड़ी है।
Taj Mohammad
इश्क़ नहीं हम
Varun Singh Gautam
खंडहर में अब खोज रहे ।
Buddha Prakash
कातिल बन गए है।
Taj Mohammad
जिंदगी या मौत? आपको क्या चाहिए?
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
✍️पाँव बढाकर चलना✍️
'अशांत' शेखर
💐खामोश जुबां 💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
कश्मीर की तस्वीर
DESH RAJ
वर्षा
Vijaykumar Gundal
मजबूर ! मजदूर
शेख़ जाफ़र खान
गीत
शेख़ जाफ़र खान
ॐ शिव शंकर भोले नाथ र
Swami Ganganiya
मेरे पिता से बेहतर कोई नहीं
Manu Vashistha
मै हिम्मत नही हारी
Anamika Singh
सुन ज़िन्दगी!
Shailendra Aseem
🌺🍀दोषा: च एतेषां सत्ता🍀🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
फेसबुक की दुनिया
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
वेवफा प्यार
Anamika Singh
पर्यावरण दिवस
Ram Krishan Rastogi
शायरी
श्याम सिंह बिष्ट
मोहब्बत ही आजकल कम हैं
Dr.sima
Loading...