Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings
Aug 22, 2016 · 1 min read

पानी का बुलबुला

पानी का बुलबुला ….

सुबह सुबह मिट्टी मे कुछ पंखुडी देख
कदम ठिठक गए

कौतूहल वश ……….
फूल की दशा देख मन बहक गया

गौर से देखा तो गुलाब की पंखुडी थी

याद आया अभी कल ही तो पौधे मे सजी थी

उसकी खूबसूरती सबको बहका रही थी

हर आने जाने वालो को ठगा रही थी

अपने यौवन पे चहक रही थी

पौधे की डाली पर गुमान से लहक रही थी

पर आज मलिन सी मिटटी मे पडी थी
न संगी न साथी अकेले ही पडी थी

मन चित्कार उठा ………….

सचमुच इंसान हो या पुष्प

सबकी यही नियति थी …

फिर क्यू राग ..द्वेष …और गुमान की द्रष्टी है

मिट्टी से उठा है मिट्टी मे मिल जाएगा

. पानी का बुलबुला है पल मे ढल जाएगा …

न कद्र स्वंय की करी है न ही करी थी

सचमुच गुलाब की पंखुडी मिट्टी मे मिली थी

न संगी न साथी अकेले ही पडी थी !
नीरा रानी ….

503 Views
You may also like:
जय जगजननी ! मातु भवानी(भगवती गीत)
मनोज कर्ण
काफ़िर का ईमाँ
DEVSHREE PAREEK 'ARPITA'
पिता
Pt. Brajesh Kumar Nayak
प्राकृतिक आजादी और कानून
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
किरदार
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
अधुरा सपना
Anamika Singh
बिटिया होती है कोहिनूर
Anamika Singh
आज नहीं तो कल होगा / (समकालीन गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
दो पल मोहब्बत
श्री रमण 'श्रीपद्'
पिता
Saraswati Bajpai
श्रीराम गाथा
मनोज कर्ण
मेरा गुरूर है पिता
VINOD KUMAR CHAUHAN
"मेरे पिता"
vikkychandel90 विक्की चंदेल (साहिब)
पापा आपकी बहुत याद आती है !
Kuldeep mishra (KD)
यह सिर्फ़ वर्दी नहीं, मेरी वो दौलत है जो मैंने...
Lohit Tamta
पिता
Aruna Dogra Sharma
ओ मेरे साथी ! देखो
Anamika Singh
बेचारी ये जनता
शेख़ जाफ़र खान
टूट कर की पढ़ाई...
आकाश महेशपुरी
पिता की छांव
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
वक़्त किसे कहते हैं
Dr fauzia Naseem shad
पितृ वंदना
मनोज कर्ण
सच और झूठ
श्री रमण 'श्रीपद्'
मै पैसा हूं दोस्तो मेरे रूप बने है अनेक
Ram Krishan Rastogi
✍️बदल गए है ✍️
Vaishnavi Gupta
भगवान हमारे पापा हैं
Lucky Rajesh
माँ (खड़ी हूँ मैं बुलंदी पर मगर आधार तुम हो...
Dr Archana Gupta
जागो राजू, जागो...
मनोज कर्ण
बोझ
आकांक्षा राय
बहुत प्यार करता हूं तुमको
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
Loading...