Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#2 Trending Author
May 18, 2022 · 2 min read

पानी का दर्द

आज पानी रो रही है
आज पानी रो रही है
सिसक सिसक दम तोड़ रही है
और हमसे पूँछ रही हैं।

सोचो कैसा लगता है
जब अपने करे अपनों पर प्रहार
अपनों से प्रताड़ित होकर
मैं हो गई हूँ आज लाचार।

मैंने दिया था तुमको
निर्मल – शुद्ध जल पीने के लिए
तुमने अपने मतलब के लिए
मुझको मैला कर दिया है।

मेरे चाँदी जैसे रंग को
तुमने काला कर दिया है,
अपने स्वार्थ में आकर तुमने
मेरा ही दम घोट दिया है।

तुमने अपने स्वार्थ लिए
मेरा मान-मर्दन किया है,
तरह- तरह की गंदगी मुझ में डाल
मेरा तिरस्कार किया है।

मेरे अमृत जैसे पानी में
तुमने कई तरह के
ज़हर को घोल दिया है
और तुमने अमृत से अब मुझको
विष बना दिया हैं।

मेरा पानी गुणों का खान था,
जीवन के लिए यह वरदान था,
इसको पीने से होती थी
तेरे जीवन की लम्बी डोर।

पर तुमने इसके गुणों को
कम कर दिया हैं
और इसके वरदान होने पर भी
प्रश्न खरा कर दिया हैं।

क्योंकि तुमने अपने स्वार्थ में आकर
इसमे गंदगी भर रहे हो
और इसके सभी गुणों को ही
तुम नष्ट कर रहे हो।

इसलिए मैं कह रही हूँ
मेरे पानी को जाया न करो,
और मेरे बुँद- बुँद की कीमत
तुम सबको समझाया करो।

मैं हूँ एक अनमोल रत्न
एक बार जो खो गई
दूबारा ढूँढने पर भी
इस जग मे कहीं नहीं मिलूँगी।

मेरा मोल अब तो समझ लो
ऐ जग के तुम प्राणी
और व्यर्थ में न बहाओ
मेरा निर्मल सा पानी।

आज भी ऐ मूर्ख प्राणी
तेरे लिए सोच रही हूँ,
इसलिए तुमको बार – बार
मैं आकर समझा रही हूँ।

मैं जब नही रहूंगी इस धरती पर
तो इस जग का क्या होगा
पेड़-पौधे, पशु-पक्षी
और तेरा भविष्य तुमको कोसेगा।

मैं फिर भविष्य से
कैसे मिल पाऊँगी
और कैसे अपने पानी को
फिर निर्मल बताऊंगी।

मैं कैसे भविष्य को यह बताऊँगी
यह सब तेरे इतिहास का किया धरा हैं
इसलिए अब तुम सम्भल जाओ
और भविष्य के लिए मुझे बचाओं।

तुम भविष्य के आँखों से
कैसे अपनी आँख
मिला पाओगे
और तुम कैसे उसके प्रश्नो का
उत्तर दे पाओगे।

मै अगर न बच पाई तो
तुम कहाँ बच पाओगे
और मेरे संग – संग इस दुनिया से
तुम भी तो चले जाओगे।

– अनामिका

2 Likes · 4 Comments · 83 Views
You may also like:
पिता जी
Rakesh Pathak Kathara
शर्म-ओ-हया
Dr. Alpa H. Amin
बारिश की बौछार
Shriyansh Gupta
मुक्तक(मंच)
Dr Archana Gupta
जब-जब देखूं चाँद गगन में.....
अश्क चिरैयाकोटी
जैसा भी ये जीवन मेरा है।
Saraswati Bajpai
【28】 *!* अखरेगी गैर - जिम्मेदारी *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
✍️जिंदगी का फ़लसफ़ा✍️
"अशांत" शेखर
देखो हाथी राजा आए
VINOD KUMAR CHAUHAN
लॉकडाउन गीतिका
Ravi Prakash
आप कौन से मुसलमान है भाई ?
ओनिका सेतिया 'अनु '
धरती माँ का करो सदा जतन......
Dr. Alpa H. Amin
*~* वक्त़ गया हे राम *~*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
विश्व पर्यावरण दिवस 5 जून 2022
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
और जीना चाहता हूं मैं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
बाबा भैरण के जनैत छी ?
श्रीहर्ष आचार्य
ये सियासत है।
Taj Mohammad
मोबाइल सन्देश (दोहा)
N.ksahu0007@writer
Once Again You Visited My Dream Town
Manisha Manjari
बुरी आदत
AMRESH KUMAR VERMA
आईना हूं सब सच ही बताऊंगा।
Taj Mohammad
हमारी प्यारी मां
Shriyansh Gupta
ग्रीष्म ऋतु भाग ३
Vishnu Prasad 'panchotiya'
एहसासों के समंदर में।
Taj Mohammad
कुत्ते भौंक रहे हैं हाथी निज रस चलता जाता
Pt. Brajesh Kumar Nayak
**जीवन में भर जाती सुवास**
Dr. Alpa H. Amin
त्रिशरण गीत
Buddha Prakash
सूरज से मनुहार (ग्रीष्म-गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
सृजन कर्ता है पिता।
Taj Mohammad
सृजनकरिता
DR ARUN KUMAR SHASTRI
Loading...