Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

पानी कहे पुकार

हम भी माटी तुम भी माटी, माटी सब संसार
माटी से सब बने चराचर, माटी कहे पुकार
सदा प्रेम से रहना बंदे, करना धरा श्रंगार
हम भी माटी तुम भी माटी, माटी सब संसार
माटी से सब बने चराचर माटी कहे पुकार
हम भी पानी तुम भी पानी, पानी सब संसार
‌पानी से जीवन है जग में, पानी कहे पुकार
सदा प्रेम से रखना मुझको, मत करना बेकार
हम भी पानी तुम भी पानी, पानी सब संसार
हम आकाश अग्नि पवन हैं, तुम में भी है सबका बास
नहीं कभी प्रदूषित करना, ध्यान ये रखना खास
पंचतत्व की सृष्टि में है, जीवन का है सब में बास
हम भी माटी तुम भी माटी, माटी सब संसार
माटी से सब बने चराचर, माटी कहे पुकार
‌सुरेश कुमार चतुर्वेदी

2 Likes · 1 Comment · 107 Views
You may also like:
हमारे जीवन में "पिता" का साया
इंजी. लोकेश शर्मा (लेखक)
बालू का पसीना "
Dr Meenu Poonia
*ओ भोलेनाथ जी* "अरदास"
Shashi kala vyas
खुद को तुम पहचानो नारी [भाग २]
Anamika Singh
मोहब्बत की दर्द- ए- दास्ताँ
Jyoti Khari
कर तू कोशिश कई....
Dr. Alpa H. Amin
सारे द्वार खुले हैं हमारे कोई झाँके तो सही
Vivek Pandey
अम्बेडकर जी के सपनों का भारत
Shankar J aanjna
✍️मेरा साया छूकर गया✍️
"अशांत" शेखर
हाल ए इश्क।
Taj Mohammad
पिता
रिपुदमन झा "पिनाकी"
ढूढ़ा जाऊंगा
सिद्धार्थ गोरखपुरी
✍️✍️व्यवस्था✍️✍️
"अशांत" शेखर
सच समझ बैठी दिल्लगी को यहाँ।
ananya rai parashar
नेता और मुहावरा
सूर्यकांत द्विवेदी
यादें आती हैं
Krishan Singh
उसने ऐसा क्यों किया
Anamika Singh
जब हम छोटे बच्चे थे ।
Saraswati Bajpai
पिता
Dr. Kishan Karigar
कहानियां
Alok Saxena
पितृ स्वरूपा,हे विधाता..!
मनोज कर्ण
चिड़िया का घोंसला
DESH RAJ
हवा
AMRESH KUMAR VERMA
ये जिंदगी ना हंस रही है।
Taj Mohammad
बरगद का पेड़
Manu Vashistha
"साहिल"
Dr. Alpa H. Amin
अनोखा‌ रिश्ता दोस्ती का
AMRESH KUMAR VERMA
परख लो रास्ते को तुम.....
अश्क चिरैयाकोटी
दोस्ती अपनी जगह है आशिकी अपनी जगह
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
यूं तुम मुझमें जज़्ब हो गए हो।
Taj Mohammad
Loading...