Oct 7, 2016 · 1 min read

पाक के नापाक इरादे

पाक के न पाक इरादे
है ओछी हरकत तेरी,जो तू हमको हड़काता है।
तेरी हर हरकत का, मूंह तोड़ जबाव हमें आता है।।
डाल कर चंद दाने धोखे के, जो तू हमें फं साता है।
घुस जाते तेरे खेमे में जाल में तू फंस जाता है।।
है बहुत गरम ये लावा रगों में बहा जो जाता है।
एक इशारा मिलते ही उबल कर बाहर आता है।।
घटता-मिटता पल भर में खाक तुझे कर जाता है।
जब वीर सिपाही भारत का नैनो की अग्नि दिखाता है।।
न पाक इरादे तेरे जो सत्रह जाने खाता है।
खो कर अपने दुगने फिर मुंह के बल गिर जाता है।।
ओढ़ कर खाल शेर की गीदड़ सा तू चिल्लाता है।
क्यूं फिक्र नहीं तुझे अपनी जो सोता शेर जागाता है।।
है भारत का लाल अनोखा जो माटी पे जान गवाता है।
आंख निकाल बाहर कर दें जो मां पे आंख उठाता है।
सुन ले समझ ले न पाक तू भारत ये समझाता है।।
क्यूं देकर दर्द हमें तू दुगना दर्द उठाता है।
तेरे मेरा कर-कर के रंजिश और बढ़ाता है।।
खाली-पीली निर्दोषों की क्यूं तू भेंट चढ़ाता है।
-नूतन ‘ज्योति’ अग्रवाल

1 Like · 222 Views
You may also like:
हे गुरू।
Anamika Singh
🔥😊 तेरे प्यार ने
N.ksahu0007@writer
भोपाल गैस काण्ड
Shriyansh Gupta
"मुश्किल वक़्त और दोस्त"
Lohit Tamta
ये कैसा बेटी बाप का रिश्ता है?
Taj Mohammad
विदाई की घड़ी आ गई है,,,
Taj Mohammad
आखरी उत्तराधिकारी
Prabhudayal Raniwal
ग़ज़ल
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
चश्मे-तर जिन्दगी
Dr. Sunita Singh
महँगाई
आकाश महेशपुरी
कवि का परिचय( पं बृजेश कुमार नायक का परिचय)
Pt. Brajesh Kumar Nayak
ना वो हवा ना वो पानी है अब
VINOD KUMAR CHAUHAN
1-अश्म पर यह तेरा नाम मैंने लिखा2- अश्म पर मेरा...
Pt. Brajesh Kumar Nayak
💐 ग़ुरूर मिट जाएगा💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
कन्यादान क्यों और किसलिए [भाग६]
Anamika Singh
रफ़्तार के लिए (ghazal by Vinit Singh Shayar)
Vinit Singh
पिता
KAMAL THAKUR
भाग्य लिपि
ओनिका सेतिया 'अनु '
जी, वो पिता है
सूर्यकांत द्विवेदी
माँ, हर बचपन का भगवान
Pt. Brajesh Kumar Nayak
*बुद्ध पूर्णिमा 【कुंडलिया】*
Ravi Prakash
# जज्बे सलाम ...
Chinta netam मन
फिर से खो गया है।
Taj Mohammad
जला दिए
सिद्धार्थ गोरखपुरी
Angad tiwari
Angad Tiwari
विश्व पुस्तक दिवस (किताब)
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
लड़कियों का घर
Surabhi bharati
*!* अपनी यारी बेमिसाल *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
# स्त्रियां ...
Chinta netam मन
इश्क में बेचैनियाँ बेताबियाँ बहुत हैं।
Taj Mohammad
Loading...