Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Oct 2016 · 1 min read

पाक के नापाक इरादे

पाक के न पाक इरादे
है ओछी हरकत तेरी,जो तू हमको हड़काता है।
तेरी हर हरकत का, मूंह तोड़ जबाव हमें आता है।।
डाल कर चंद दाने धोखे के, जो तू हमें फं साता है।
घुस जाते तेरे खेमे में जाल में तू फंस जाता है।।
है बहुत गरम ये लावा रगों में बहा जो जाता है।
एक इशारा मिलते ही उबल कर बाहर आता है।।
घटता-मिटता पल भर में खाक तुझे कर जाता है।
जब वीर सिपाही भारत का नैनो की अग्नि दिखाता है।।
न पाक इरादे तेरे जो सत्रह जाने खाता है।
खो कर अपने दुगने फिर मुंह के बल गिर जाता है।।
ओढ़ कर खाल शेर की गीदड़ सा तू चिल्लाता है।
क्यूं फिक्र नहीं तुझे अपनी जो सोता शेर जागाता है।।
है भारत का लाल अनोखा जो माटी पे जान गवाता है।
आंख निकाल बाहर कर दें जो मां पे आंख उठाता है।
सुन ले समझ ले न पाक तू भारत ये समझाता है।।
क्यूं देकर दर्द हमें तू दुगना दर्द उठाता है।
तेरे मेरा कर-कर के रंजिश और बढ़ाता है।।
खाली-पीली निर्दोषों की क्यूं तू भेंट चढ़ाता है।
-नूतन ‘ज्योति’ अग्रवाल

Language: Hindi
1 Like · 494 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Follow our official WhatsApp Channel to get all the exciting updates about our writing competitions, latest published books, author interviews and much more, directly on your phone.
You may also like:
#तेवरी / #देसी_ग़ज़ल
#तेवरी / #देसी_ग़ज़ल
*Author प्रणय प्रभात*
क्यूँ इतना झूठ बोलते हैं लोग
क्यूँ इतना झूठ बोलते हैं लोग
shabina. Naaz
एक बात है
एक बात है
Varun Singh Gautam
तेरा आईना हो जाऊं
तेरा आईना हो जाऊं
कवि दीपक बवेजा
जाति दलदल या कुछ ओर
जाति दलदल या कुछ ओर
विनोद सिल्ला
कुन का महल
कुन का महल
Satish Srijan
मुँह इंदियारे जागे दद्दा / (नवगीत)
मुँह इंदियारे जागे दद्दा / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
ए रब मेरे मरने की खबर उस तक पहुंचा देना
ए रब मेरे मरने की खबर उस तक पहुंचा देना
श्याम सिंह बिष्ट
कितनी बार शर्मिंदा हुआ जाए,
कितनी बार शर्मिंदा हुआ जाए,
ओनिका सेतिया 'अनु '
ठोकरों ने गिराया ऐसा, कि चलना सीखा दिया।
ठोकरों ने गिराया ऐसा, कि चलना सीखा दिया।
Manisha Manjari
*जब तक दंश गुलामी के ,कैसे कह दूँ आजादी है 【गीत 】*
*जब तक दंश गुलामी के ,कैसे कह दूँ आजादी है 【गीत 】*
Ravi Prakash
एक थे वशिष्ठ
एक थे वशिष्ठ
Suraj kushwaha
Milo kbhi fursat se,
Milo kbhi fursat se,
Sakshi Tripathi
💐प्रेम कौतुक-248💐
💐प्रेम कौतुक-248💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
आखिर शिथिलता के दौर
आखिर शिथिलता के दौर
DrLakshman Jha Parimal
महिला दिवस दोहा नवमी
महिला दिवस दोहा नवमी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
दिल की तमन्ना
दिल की तमन्ना
अनूप अम्बर
नज़र से नज़र
नज़र से नज़र
Dr. Sunita Singh
शिक्षक
शिक्षक
Dr. Pradeep Kumar Sharma
इतनी उम्मीद
इतनी उम्मीद
Dr fauzia Naseem shad
(14) जान बेवजह निकली / जान बेवफा निकली
(14) जान बेवजह निकली / जान बेवफा निकली
Kishore Nigam
अपने ही शहर में बेगाने हम
अपने ही शहर में बेगाने हम
सुशील कुमार सिंह "प्रभात"
मेरी निंदिया तेरे सपने ...
मेरी निंदिया तेरे सपने ...
Pakhi Jain
"शौर्यम..दक्षम..युध्धेय, बलिदान परम धर्मा" अर्थात- बहादुरी वह है जो आपको युद्ध के लिए सक्षम बनाती है...🙏🏼
Lohit Tamta
मेरा ना कोई नसीब है।
मेरा ना कोई नसीब है।
Taj Mohammad
बाजार से सब कुछ मिल जाता है,
बाजार से सब कुछ मिल जाता है,
Shubham Pandey (S P)
धैर्य
धैर्य
लक्ष्मी सिंह
आप तो गुलाब है,कभी बबूल न बनिए
आप तो गुलाब है,कभी बबूल न बनिए
Ram Krishan Rastogi
पिता का प्रेम
पिता का प्रेम
Seema gupta,Alwar
बिन शादी के रह कर, संत-फकीरा कहा सुखी हो पायें।
बिन शादी के रह कर, संत-फकीरा कहा सुखी हो पायें।
Anil chobisa
Loading...