Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Apr 30, 2022 · 1 min read

पहाड़ों की रानी

मैं
लगाना चाहता हूँ
तुम्हारे जूड़े में चेस्टनट के फूल
क्योंकि
मुझे दिखते हैं इनमें
कई साफ शफ़्फ़ाफ़ दिल
नहीं है जिनमें ज़रा सी भी कटुता
आज के प्रयोगवादी युग में भी
नहीं फ़र्क पड़ता इन्हें
कि
आ रही है अज़ान मस्जिद से
या मन्दिर से घण्टियों की आवाज़
झूमती हुई डाली से लगे
खिलखिलाते रहते हैं
देखकर खिलखिलाते चेहरे…

भर देना चाहता हूँ
तुम्हारे दिल में
माल रोड की रंगीन शाम जैसी खुशियाँ
जो नहीं करती भेदभाव
धर्म के नाम पर, जात के नाम पर
भाषा के नाम पर या प्रान्त के नाम पर
हाँ, करती है स्वागत
सबका खुले दिल से
जैसे किया था इसने कभी अंग्रेजों का
जबकि वे आए थे पहले पहल
सुनकर इस नवयौवना के चर्चे…

कर देना चाहता हूँ
तुम्हारे मन को निर्मल और शीतल
कैम्पटी फॉल के गिरते झरने सा
जिसमें भीगकर
मन को मिलती है एक अद्भुत शान्ति
दूर हो जाती है थकान
तन और मन दोनों की
हो जाता हूँ एकदम तरोताज़ा
एक नई ऊर्जा से ओतप्रोत…

बना देना चाहता हूँ
तुम्हें पहाड़ों की रानी मसूरी जैसी खूबसूरत
जो हमेशा मुस्कुराती रहती है
चाहे पहन रखा हो इसने
दहकते लाल बुरांस के फूलों का परिधान
या ओढ़ लिया हो
ठण्डी बर्फ़ की सफ़ेद चादर
मौसम भले ही अनुकूल हो या प्रतिकूल
इसकी फ़ितरत में शामिल है
खुशियाँ बांटना…

मैं
बनाना चाहता हूँ,
और
ज़रूर बनाना चाहूँगा तुम्हें
पहाड़ों की रानी
मसूरी जैसी खूबसूरत।

© शैलेन्द्र ‘असीम’

74 Views
You may also like:
।। मेरे तात ।।
Akash Yadav
कोई हल नहीं मिलता रोने और रुलाने से।
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
चोरी चोरी छुपके छुपके
gurudeenverma198
सच तो यह है
gurudeenverma198
दोहा छंद- पिता
रेखा कापसे
ज़िंदगी मयस्सर ना हुई खुश रहने की।
Taj Mohammad
Colourful Balloons
Buddha Prakash
रामलीला
VINOD KUMAR CHAUHAN
रोटी संग मरते देखा
शेख़ जाफ़र खान
पिता, पिता बने आकाश
indu parashar
तीन किताबें
Buddha Prakash
बहुत हुशियार हो गए है लोग
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
इश्क नज़रों के सामने जवां होता है।
Taj Mohammad
पिता एक विश्वास - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
बुलन्द अशआर
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
वो
Shyam Sundar Subramanian
बसन्त बहार
N.ksahu0007@writer
पैसे की महिमा
Ram Krishan Rastogi
प्यार
Swami Ganganiya
$दोहे- हरियाली पर
आर.एस. 'प्रीतम'
इश्क
goutam shaw
काँटा और गुलाब
Anamika Singh
जाति- पाति, भेद- भाव
AMRESH KUMAR VERMA
फीका त्यौहार
पाण्डेय चिदानन्द
अकेलापन
AMRESH KUMAR VERMA
Motivation ! Motivation ! Motivation !
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
✍️✍️ए जिंदगी✍️✍️
"अशांत" शेखर
हाइकु:(कोरोना)
Prabhudayal Raniwal
पितु संग बचपन
मनोज कर्ण
*झाँसी की क्षत्राणी । (झाँसी की वीरांगना/वीरनारी)
Pt. Brajesh Kumar Nayak
Loading...