Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

पहचान…

पहचान
°~°~°~°~°
मानव तन अपनी आत्मा से प्रश्न करता है _

आते हैं सब मुसाफिर बनकर ,
सफर कब तक अविराम चलेगी..?
नजर मुझे,कब आएगी मंजिल ,
यात्री को कब पहचान मिलेगी..?

आत्मा फिर इस तन से कहता है _

मेरी यह पहचान समझ लो ।
अमर हूं मैं, मिटता ही नहीं हूँ ,
दिखता हूँ सफर में तेरे जो ,
किन्तु सफर,मैं करता ही नहीं हूँ ।

ये तो तेरे कर्मो का फल है ,
जो मैं तेरे संग चला हूँ ।
मेरी तो पहचान यही है ,
मैं तो बस एक शून्य सखा हूँ ।

उतरा था नभ से जो धरा पर ,
तेरे कर्मो का हिसाब चुकाने ।
दिखता तुझको ये जन्म बस ही है ,
मुझको तो दिखता अतीत है ।

शोर-शराबे धन दौलत से ,
पहचान मेरी धुमिल ही होती ।
गहने,जेबर,कार और बंगले ,
मेरे मन को जंजीर सी लगती ।

इस युग की नई दास्ताँ तो देखो_

भूख,गरीबों की पहचान बनी है ,
अमीरी झूठी शान में फंसी है ।
धर्म आतंकित हुआ है जग में ,
जाति से नई पहचान सजी है ।

रिशतें-नाते झुठे लगते हैं ,
साहिल पे ईमान खड़ा है ।
कर्म करो तुम ऐसा जग में ,
मिल जाऊँ मैं, वापस ब्रह्म में ।

मेरी जब पहचान मिटेगी ,
फिर तेरी पहचान बनेगी ।
भूल-भूलैया सी जीवन में ,
जग को तेरी याद रहेगी ।

तुम ब्रह्ममय निर्विकार रहोगे ,
हर दिल को फिर,तुम याद रहोगे ।

मौलिक एवं स्वरचित
सर्वाधिकार सुरक्षित
© ® मनोज कुमार कर्ण
कटिहार ( बिहार )
तिथि – २९ /१२ / २०२१
कृष्ण पक्ष , दशमी , बुधवार
विक्रम संवत २०७८
मोबाइल न. – 8757227201

7 Likes · 4 Comments · 854 Views
You may also like:
सफलता कदम चूमेगी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
कमर तोड़ता करधन
शेख़ जाफ़र खान
राष्ट्रवाद का रंग
मनोज कर्ण
पिता
Manisha Manjari
पवनपुत्र, हे ! अंजनि नंदन ....
ईश्वर दयाल गोस्वामी
सपनों में खोए अपने
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पापा को मैं पास में पाऊँ
Dr. Pratibha Mahi
मेरा खुद पर यकीन न खोता
Dr fauzia Naseem shad
हमारी सभ्यता
Anamika Singh
ऐ मां वो गुज़रा जमाना याद आता है।
Abhishek Pandey Abhi
गज़ल
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
पीला पड़ा लाल तरबूज़ / (गर्मी का गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
गर्म साँसें,जल रहा मन / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
माँ की परिभाषा मैं दूँ कैसे?
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
जी, वो पिता है
सूर्यकांत द्विवेदी
कण-कण तेरे रूप
श्री रमण 'श्रीपद्'
रूठ गई हैं बरखा रानी
Dr Archana Gupta
बेटी को जन्मदिन की बधाई
लक्ष्मी सिंह
घनाक्षरी छन्द
शेख़ जाफ़र खान
मत रो ऐ दिल
Anamika Singh
छोटा-सा परिवार
श्री रमण 'श्रीपद्'
पितृ ऋण
Shyam Sundar Subramanian
हमको जो समझे हमीं सा ।
Dr fauzia Naseem shad
"याद आओगे"
Ajit Kumar "Karn"
ग़ज़ल / (हिन्दी)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
नदी सा प्यार
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
'परिवर्तन'
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
पिता के चरणों को नमन ।
Buddha Prakash
ऐ ज़िन्दगी तुझे
Dr fauzia Naseem shad
दया करो भगवान
Buddha Prakash
Loading...