Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

पशुता

कभी कभी तो लगता है
सब कुछ खाली सा,
तो कभी यूँ जैसे
भरा हुआ है गले तक
क्या लेकिन??
गुस्सा, प्यार , थोड़ा अहसास
मेरे मनुष्य होने का
सृष्टि में सर्वश्रेष्ठ होने का
लेकिन कभी लगता है
दबी है पशुता भी कहीं भीतर मेरे ,
जिसे छुपाता हूँ मैं सबसे
पर यह उभर उभर कर आती है गले तक ,
शैतान छिपा है हर सुंदर चेहरे के पीछे ,
आता है यह नज़र वक्त बेवक्त
जब नहीं होता कुछ मर्जी का,
जब दबता है यह बेबसियों के नीचे,
जब अपमान का घूंट पिया जाता है ,
जब वो सहना पड़े जो नहीं है सहनशील ,
आवेश मारता है आवेग ,
दबी भावनाएं बनती है आक्रोश,
वही आक्रोश पशुता का रूप बनता है ,
जो दबी है सभी के अंतर्मन में ,
थोड़ी पशुता यकीनन थोड़ी पशुता ,
करे कोई लाख इंकार ,
या छुपाये बार बार ,
सब में है थोड़ी पशुता
यकीनन थोड़ी पशुता !!

5 Likes · 2 Comments · 286 Views
You may also like:
जिसे पाया नहीं मैंने
Dr fauzia Naseem shad
सागर ही क्यों
Shivkumar Bilagrami
ये शिक्षामित्र है भाई कि इसमें जान थोड़ी है
आकाश महेशपुरी
जिंदगी तो धोखा है।
Taj Mohammad
ज़िंदगी का हीरो
AMRESH KUMAR VERMA
ख़्वाहिश पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
विसाले यार
Taj Mohammad
युद्ध सिर्फ प्रश्न खड़ा करता हैं [भाग८]
Anamika Singh
【11】 *!* टिक टिक टिक चले घड़ी *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
" समुद्री बादल "
Dr Meenu Poonia
अपनों से न गै़रों से कोई भी गिला रखना
Shivkumar Bilagrami
मां सरस्वती
AMRESH KUMAR VERMA
- मेरा प्रेम कागज,कलम व पुस्तक -
bharat gehlot
नैन अपने
Dr fauzia Naseem shad
The Journey of this heartbeat.
Manisha Manjari
मेरा स्वाभिमान है पिता।
Taj Mohammad
प्रेम
Kanchan Khanna
क्या यही शिक्षामित्रों की है वो ख़ता
आकाश महेशपुरी
सावन आया आई बहार
Anamika Singh
प्रलयंकारी कोरोना
Shriyansh Gupta
दोस्ती का जो
Dr fauzia Naseem shad
क्यों करूँ नफरत मैं इस अंधेरी रात से।
Manisha Manjari
कभी जमीं कभी आसमां बन जाता है।
Taj Mohammad
सत्य छिपता नहीं...
मनोज कर्ण
मां के आंचल
Nitu Sah
प्रकाशित हो मिल गया, स्वाधीनता के घाम से
Pt. Brajesh Kumar Nayak
प्रणाम : पल्लवी राय जी तथा सीन शीन आलम साहब
Ravi Prakash
युद्ध सिर्फ प्रश्न खड़ा करता हैं [भाग९]
Anamika Singh
ज़िंदगी तेरी मौत से
Dr fauzia Naseem shad
" विचित्र उत्सव "
Dr Meenu Poonia
Loading...