Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 May 2022 · 1 min read

# पर_सनम_तुझे_क्या

Ha मैं हस्ता हू पर खुश नहीं
सोता हू पर नींद नहीं
Main खाता हूं पर भूख नही
सोचता हूं पर वो ख़ुआव नहीं……………
Main बोलता हूं पर अब वो बात नहीं
अकेला हूं पर कोई पास भी नहीं

हम जिये या मरे पर सनम तुझे क्या
हम जागे या सोये पर सनम तुझे क्या

इन हवाओं में अब वो जज़्बात भी नहीं
काले बादल तो है पर बरसात भी नहीं
तू साथ होके भी साथ नहीं
Haaa ये दिल तो है sala प्यार भी नही ,

हम्म जिये या मरे पर सनम तुझे क्या
हम्म जागे या सोये पर सनम तुझे क्या

जिस चेहरे पे थी हसी , पर रहती हैं अब मायूसी
जिन आखों में थे सुअपन , पर हैं अब वो नम
जिन हाथों में थी क़लम , पर थामे है वो शराब
जिस दिल मे थे सनम , पर है अब वहाँ ज़ख्म
जिन बातों में थे तुम , पर रहते है अब चुप हम्म

हम जिये या मरे पर सनम तुझे क्या
हम जागे या सोये पर सनम तुझे क्या
हम हसे या रोये पर सनम तुझे क्या

D.k math

1 Like · 106 Views
You may also like:
नित नए संघर्ष करो (मजदूर दिवस)
श्री रमण 'श्रीपद्'
जब गुलशन ही नहीं है तो गुलाब किस काम का...
लवकुश यादव "अज़ल"
【6】** माँ **
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
दर्द इतने बुरे नहीं होते
Dr fauzia Naseem shad
तप रहे हैं प्राण भी / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
ऐ मातृभूमि ! तुम्हें शत-शत नमन
Anamika Singh
रफ्तार
Anamika Singh
नर्मदा के घाट पर / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
भोर का नवगीत / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
हमें क़िस्मत ने आज़माया है ।
Dr fauzia Naseem shad
✍️One liner quotes✍️
Vaishnavi Gupta
हो मन में लगन
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
जंगल के राजा
Abhishek Pandey Abhi
आप से ज़िंदगी
Dr fauzia Naseem shad
ग़ज़ल / (हिन्दी)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पिता क्या है?
Varsha Chaurasiya
किसकी पीर सुने ? (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
कुछ लोग यूँ ही बदनाम नहीं होते...
मनोज कर्ण
✍️रास्ता मंज़िल का✍️
Vaishnavi Gupta
मां की ममता
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
बुढ़ापे में अभी भी मजे लेता हूं
Ram Krishan Rastogi
सो गया है आदमी
कुमार अविनाश केसर
ख़्वाब पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
मेरे पिता है प्यारे पिता
Vishnu Prasad 'panchotiya'
*"पिता"*
Shashi kala vyas
Forest Queen 'The Waterfall'
Buddha Prakash
मेरे पिता
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
✍️पढ़ना ही पड़ेगा ✍️
Vaishnavi Gupta
नदी की पपड़ी उखड़ी / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
दो जून की रोटी उसे मयस्सर
श्री रमण 'श्रीपद्'
Loading...