Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 6, 2022 · 1 min read

पर्यावरण

विज्ञान के नाम से अज्ञान न बनो।
परि आवरणों को सुरक्ष रखो।

वनों को मत काटो,
वृक्षारोपण करो,
रासायनोका उपयोग मत करो।
जल और वायु को प्रदूषण मत करो।

अज्ञान से नही ज्ञान से सोचो।
आज नही तो कल नही।

प्रदूषण से पृथ्वी को बचावो।
जागो। पेड-पौधे लगावो।
पृत्वी को बचावो।

जि. विजय कुमार
हैदराबाद, तेलंगाना

3 Likes · 4 Comments · 137 Views
You may also like:
हर ख्वाहिश।
Taj Mohammad
शायरी
श्याम सिंह बिष्ट
प्रार्थना(कविता)
श्रीहर्ष आचार्य
माँ गंगा
Anamika Singh
कभी मेहरबां।
Taj Mohammad
औरतें
Kanchan Khanna
हम भाई भाई थे
Anamika Singh
“ शिष्टता के धेने रहू ”
DrLakshman Jha Parimal
(स्वतंत्रता की रक्षा)
Prabhudayal Raniwal
तमाम उम्र।
Taj Mohammad
ग्रह और शरीर
Vikas Sharma'Shivaaya'
लिखता जा रहा है वह
gurudeenverma198
भाईजान की बात
AJAY PRASAD
✍️सुकून✍️
'अशांत' शेखर
दिनेश कार्तिक
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
कविता –सच्चाई से मुकर न जाना
रकमिश सुल्तानपुरी
कुछ दुआ का
Dr fauzia Naseem shad
हिंदी से प्यार करो
Pt. Brajesh Kumar Nayak
जिन्दगी तेरा फलसफा।
Taj Mohammad
कलम कि दर्द
Hareram कुमार प्रीतम
आग
Anamika Singh
" ना रही पहले आली हवा "
Dr Meenu Poonia
सोलह शृंगार
श्री रमण 'श्रीपद्'
गुरु की महिमा***
Prabhavari Jha
**मानव ईश्वर की अनुपम कृति है....
Prabhavari Jha
# बारिश का मौसम .....
Chinta netam " मन "
🌺प्रेमस्य रसः ज्ञानस्य रसेण बहु विलक्षणं🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
नूर ए हुस्न उसका।
Taj Mohammad
फ़रेब-ए-'इश्क़
Aditya Prakash
✍️मोहब्बत की राह✍️
'अशांत' शेखर
Loading...