Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 6, 2021 · 1 min read

पर्यावरण

कोई खुशबू सी गुजरी ताजा-ताजा,
कँही बेला,कँही चम्पा है खिला सा,
गुलाब देख कर नज़रे थम सी गयी,
इनमें अपनेपन का भाव है छुपा सा,
नीम पर रोज़ कूकती है,कोयल प्यारी,
हवा के संग पीपल झूमता हैं,सिरफिरा सा,
आशीर्वाद दे रहा तुलसी का बिरवा,
पिछवाडे बड़ा बरगद खड़ा,प्रहरी सा,
यदि दृष्टि में सौन्दर्य हैं,दृष्टिकोण पर्यावरण हैं,
प्रकृति भी गुनगुनाती है,गीत मधुर सा ||

5 Likes · 4 Comments · 391 Views
You may also like:
"याद आओगे"
Ajit Kumar "Karn"
ज्यादा रोशनी।
Taj Mohammad
Religious Bigotry
Mahesh Ojha
हर किसी में अदबो-लिहाज़ ना होता है।
Taj Mohammad
तुम्हारे माता-पिता
Saraswati Bajpai
मील का पत्थर
Anamika Singh
बरसात
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
भोजपुरी के संवैधानिक दर्जा बदे सरकार से अपील
आकाश महेशपुरी
साजिश अपने ही रचते हैं
gurudeenverma198
पुस्तक समीक्षा *तुम्हारे नेह के बल से (काव्य संग्रह)*
Ravi Prakash
अम्मा/मम्मा
Manu Vashistha
मै हिम्मत नही हारी
Anamika Singh
नदी की पपड़ी उखड़ी / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मेरे पापा
Anamika Singh
क्या प्रात है !
Saraswati Bajpai
माटी जन्मभूमि की दौलत ......
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
गंगा दशहरा
श्री रमण 'श्रीपद्'
✍️मी परत शुन्य होणार नाही..!✍️
"अशांत" शेखर
मंज़िल मौत है तो जिंदगी एक सफ़र है
Krishan Singh
लफ़्ज़ों में ज़िंदगी को
Dr fauzia Naseem shad
मन की उलझने
Aditya Prakash
त्रिशरण गीत
Buddha Prakash
विश्व पृथ्वी दिवस
Dr Archana Gupta
क्या मेरी कलाई सूनी रहेगी ?
Kumar Anu Ojha
आदर्श पिता
Sahil
बेवफाओं के शहर में कुछ वफ़ा कर जाऊं
Ram Krishan Rastogi
मिथ्या मार्ग का फल
AMRESH KUMAR VERMA
तुम गैर कबसे हो गए ?...
ओनिका सेतिया 'अनु '
क्यों कहाँ चल दिये
gurudeenverma198
आज फिर
Rashmi Sanjay
Loading...