Jun 5, 2017 · 1 min read

पर्यावरण बचा लो,कर लो बृक्षों की निगरानी अब

पर्यावरण बचा लो, कर लो बृक्षों की निगरानी अब |
प्रकृति-प्रेम बिन गर्म हवाएं ,बन गईं रेगिस्तानी अब |

हाल यही यदि रहा,रोएगा निश्चय मानव पानी बिन |
सघन शाप हम स्वयं बन रहे, भाव विहीन कहानी बन|

बृजेश कुमार नायक
जागा हिंदुस्तान चाहिए एवं क्रौंच सुऋषि आलोक कृतियों के प्रणेता
05-06-2017

मेरे फेसबुक Brijesh Nayak पर भी उक्त पंक्तियां पढी जा सकतीं हैं |

589 Views
You may also like:
श्रीराम गाथा
मनोज कर्ण
*!* रचो नया इतिहास *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
मौत बाटे अटल
आकाश महेशपुरी
सुभाष चंद्र बोस
Anamika Singh
¡*¡ हम पंछी : कोई हमें बचा लो ¡*¡
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
सूरज का ताप
सतीश मिश्र "अचूक"
💐💐प्रेम की राह पर-17💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
पापा
Nitu Sah
प्रारब्ध प्रबल है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
पिता की छाँव...
मनोज कर्ण
पूंजीवाद में ही...
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
नित हारती सरलता है।
Saraswati Bajpai
पुस्तकें
डॉ. शिव लहरी
दिल से निकले हुए कुछ मुक्तक
Ram Krishan Rastogi
नाथूराम गोडसे
Anamika Singh
सलाम
Shriyansh Gupta
एक जंग, गम के संग....
Aditya Prakash
हाइकु_रिश्ते
Manu Vashistha
विरह की पीड़ा जब लगी मुझे सताने
Ram Krishan Rastogi
क्लासिफ़ाइड
सिद्धार्थ गोरखपुरी
पिता बना हूं।
Taj Mohammad
अब तो इतवार भी
Krishan Singh
मज़दूर की महत्ता
Dr. Alpa H.
माखन चोर
N.ksahu0007@writer
यूं हुस्न की नुमाइश ना करो।
Taj Mohammad
पिता जी
Rakesh Pathak Kathara
बेपनाह गम था।
Taj Mohammad
टूटता तारा
Anamika Singh
# जीत की तलाश #
Dr. Alpa H.
झरने और कवि का वार्तालाप
Ram Krishan Rastogi
Loading...