Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

पर्यावरण दिवस

तेज प्रदूषण बढ़ रहा, हवा हुई बदहाल।
सिसक रहा पर्यावरण, देख मनुज की चाल।।

वृक्षों का रोपण करो, लेकर यह संकल्प।
अपने जीवन का प्रमुख, पर्यावरण विकल्प।।

वृक्षों की रक्षा करो, सुन मानव नादान।
स्वच्छ रहे पर्यावरण, तभी बचेगी जान।।

अभिनव मिश्र अदम्य

1 Like · 1 Comment · 250 Views
You may also like:
'परिवर्तन'
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
मेरी ये जां।
Taj Mohammad
मेरे दिल की धड़कन से तुम्हारा ख़्याल...../लवकुश यादव "अज़ल"
लवकुश यादव "अज़ल"
" मेरा वतन "
Dr Meenu Poonia
✍️पत्थर✍️
'अशांत' शेखर
दर्द ख़ामोशियां
Dr fauzia Naseem shad
मेरी जान तिरंगा
gurudeenverma198
कविगोष्ठी समाचार
Awadhesh Saxena
मेरी भोली “माँ” (सहित्यपीडिया काव्य प्रतियोगिता)
पाण्डेय चिदानन्द
अधूरा यज्ञ (नाटक)*
Ravi Prakash
फास्ट फूड
Utsav Kumar Aarya
'रूप बदलते रिश्ते'
Godambari Negi
पिता
Dr.Priya Soni Khare
Gazal
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
तुम ख़्वाबों की बात करते हो।
Taj Mohammad
अनामिका के विचार
Anamika Singh
क़ैद में 15 वर्षों तक पृथ्वीराज और चंदबरदाई जीवित थे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
इश्क की तिशनगी है।
Taj Mohammad
इंसानों की इस भीड़ में
Dr fauzia Naseem shad
रात तन्हा सी
Dr fauzia Naseem shad
वक़्त किसे कहते हैं
Dr fauzia Naseem shad
नाम
Ranjit Jha
ना पूंछ तू हिम्मत।
Taj Mohammad
मेरा , सच
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
" जय हो "
DrLakshman Jha Parimal
पुस्तक समीक्षा- बुंदेलखंड के आधुनिक युग
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
धूल जिसकी चंदन है भाल पर सजाते हैं।
सत्य कुमार प्रेमी
युवता
Vijaykumar Gundal
अखंड भारत की गौरव गाथा।
Taj Mohammad
Loading...