Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#4 Trending Author
Apr 25, 2022 · 1 min read

परेशां हूं बहुत।

दिल गमज़दा है परेशां हूं बहुत।
अश्क अफशुर्दा है परेशां हूं बहुत।।1।।

दिल ने अय्यारियाँ नही सीखी।
खुशी में इब्तिला है परेशां हूं बहुत।।2।।

मोहब्बत में उठाए बड़े गम है।
अभी तो इब्तिदा है परेशां हूं बहुत।।3।।

कैसे पार होगा सफर ए सहरा।
हमसफर कोई ना है परेशां हूं बहुत।।4।।

बड़े दिनों से पैदल चल रहा हूं।
अभी दूर मक्का है परेशां हूं बहुत।।5।।

यूं कुदरत भी बडी खामोश है।
बहारों में खिजां है परेशां हूं बहुत।।6।।

ताज मोहम्मद
लखनऊ

58 Views
You may also like:
प्यार
Swami Ganganiya
विद्या पर दोहे
Dr. Sunita Singh
पर्यावरण संरक्षण
Manu Vashistha
जिन्दगी मे कोहरा
Anamika Singh
।। मेरे तात ।।
Akash Yadav
जबसे मुहब्बतों के तरफ़दार......
अश्क चिरैयाकोटी
रमेश कुमार जैन ,उनकी पत्रिका रजत और विशाल आयोजन
Ravi Prakash
✍️आव्हान✍️
"अशांत" शेखर
गणतंत्र दिवस
Aditya Prakash
विदाई की घड़ी आ गई है,,,
Taj Mohammad
आस्माँ के परिंदे
VINOD KUMAR CHAUHAN
दया के तुम हो सागर पापा।
Taj Mohammad
लहजा
सिद्धार्थ गोरखपुरी
धूप में साया।
Taj Mohammad
कितनी पीड़ा कितने भागीरथी
सूर्यकांत द्विवेदी
✍️स्त्रोत✍️
"अशांत" शेखर
कौन थाम लेता है ?
DESH RAJ
हे मात जीवन दायिनी नर्मदे हर नर्मदे हर नर्मदे हर
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
गुरुवर
AMRESH KUMAR VERMA
नहीं, अब ऐसा नहीं होगा
gurudeenverma198
कन्यादान क्यों और किसलिए [भाग४]
Anamika Singh
Little sister
Buddha Prakash
आज अपने ही घर से बेघर हो रहे है।
Taj Mohammad
गौरैया बोली मुझे बचाओ
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
शिकस्ता हाल।
Taj Mohammad
हैं पिता, जिनकी धरा पर, पुत्र वह, धनवान जग में।।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
हिंदी
Pt. Brajesh Kumar Nayak
नाशवंत आणि अविनाशी
Shyam Sundar Subramanian
रात चांदनी का महताब लगता है।
Taj Mohammad
पिताजी
विनोद शर्मा सागर
Loading...