Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#8 Trending Author

परीक्षा को समझो उत्सव समान

परीक्षा हो उत्सव समान ,
चाहे हो शैक्षणिक या ,
जीवन संचालन ।

ना भय न कुंठा न ही ,
तनाव हो मस्तिष्क में।
बस एक लगन ,एक जोश ,
हो तन मन में।

परीक्षा / प्रतियोगिता होती है ,
मनुष्य को परखने के लिए ।
जैसे सोने को आग में तपाया ,
जाता है निखारने के लिए ।

ईश्वर भी तो परीक्षा लेता है ,
अपने प्रिय भक्तों की ,
भक्ति को परखने के लिए ।
समय भी परीक्षा लेता है ,
मनुष्य को मजबूत बनाने के लिए ।

परीक्षा कठिन हो या सरल ,
यह मनुष्य की योग्यता पर निर्भर है ।
चारित्रिक दृणता या ज्ञान कोश ,
ज्ञात हो जाता है कितने स्तर पर है?

आवश्यता है केवल आत्म विश्वास और ,
आत्म संयम की , दृण निश्चय की ।
नहीं जरूरत घृणा ,ईर्ष्या ,द्वेष जैसे ,
मन में मनोभाव रखने की ।

जीवन स्वयं अपने आप में परीक्षा है ,
और यह जग है परीक्षा स्थल ।
शैक्षणिक परीक्षाएं तो एक बार होती है ,
जीवन की कठोर परीक्षाएं होती है पल पल ।

जब तक तन में श्वास है ,
परीक्षाओं से मनुष्य मुक्त नहीं हो सकता ।
जीवन को मनुष्यता की कसौटी पर कसे ,
बिना मनुष्य मनुष्य नहीं बनता ।

अन्ततः प्यारे विद्यार्थियों / मनुष्यो!
परीक्षा से न घबराओ।
अपने आत्म विश्वास और कठोर परिश्रम से,
सच्ची लगन ने इससे जितने का प्रयास करो ।

145 Views
You may also like:
✍️स्त्रोत✍️
"अशांत" शेखर
गृहणी का बुद्धत्व
पूनम कुमारी (आगाज ए दिल)
वक़्त
Mahendra Rai
✍️दिव्याची महत्ती...!✍️
"अशांत" शेखर
हरिगीतिका
शेख़ जाफ़र खान
मयखाने
Vikas Sharma'Shivaaya'
कलम के सिपाही
Pt. Brajesh Kumar Nayak
*साधुता और सद्भाव के पर्याय श्री निर्भय सरन गुप्ता :...
Ravi Prakash
सच
अंजनीत निज्जर
🌺🌻🌷तुम मिलोगे मुझे यह वादा करो🌺🌻🌷
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
प्रकाशित हो मिल गया, स्वाधीनता के घाम से
Pt. Brajesh Kumar Nayak
ए- अनूठा- हयात ईश्वरी देन
AMRESH KUMAR VERMA
पिता है मेरे रगो के अंदर।
Taj Mohammad
GOD YOU are merciful.
Taj Mohammad
🍀🌺प्रेम की राह पर-51🌺🍀
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
क्यों भिगोते हो रुखसार को।
Taj Mohammad
ज्यादा रोशनी।
Taj Mohammad
रात गहरी हो रही है
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
आज फिर
Rashmi Sanjay
हे तात ! कहा तुम चले गए...
मनोज कर्ण
जिंदगी: एक संघर्ष
Aditya Prakash
शहीदों का यशगान
शेख़ जाफ़र खान
सिर्फ एक भूल जो करती है खबरदार
gurudeenverma198
भेड़ चाल में फंसी माँ
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
नित नए संघर्ष करो (मजदूर दिवस)
श्री रमण
विश्व मजदूर दिवस पर दोहे
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
✍️'महा'राजनीति✍️
"अशांत" शेखर
*अध्यात्म ज्योति :* अंक 1 ,वर्ष 55, प्रयागराज जनवरी -...
Ravi Prakash
शायरी ने बर्बाद कर दिया |
Dheerendra Panchal
लड़ते रहो
Vivek Pandey
Loading...