Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Mar 27, 2022 · 1 min read

परिस्थिति

परिस्थितियां आती रहती सदा
हर एक मनुज को इस भव में
अवस्था में जो बांधके हौसला
करता रहता है निरंतर संघर्ष
होती उसकी विजय जगत में ।

परिप्रेक्ष्य न रहती हमेशा के
लिए किसी भी नर के पास
पृष्ठभूमि से कभी अधीरे मत
मत कभी खुशी तो यातना
यही हयात की भेंट, द्योतक ।

परिवेश में न हमसंगी कोई
हमें इस भू, जग, संसार में
स्यात् ही कोई स्वजन हमें
देता कोई- कोई का साथ
यही जिंदगी की अभिज्ञान ।

रंज, उपबंध भी होती जरूरी
हमारी इस नाजुक जिंदगी में
ठोकरें खा खाकर के हम सब
अपनी इस अनमोल सी द्वंद्व,
जिंदगी की शिखर पर पहुंचते ।

अमरेश कुमार वर्मा
जवाहर नवोदय विद्यालय बेगूसराय, बिहार

87 Views
You may also like:
माफी मैं नहीं मांगता
gurudeenverma198
यह कैसा प्यार है
Anamika Singh
ऐतबार नहीं करना!
Mahesh Ojha
सम्भल कर चलना ऐ जिन्दगी
Anamika Singh
बढ़ती आबादी
AMRESH KUMAR VERMA
✍️जिंदगी के तौरतरीके✍️
'अशांत' शेखर
सरकारी निजीकरण।
Taj Mohammad
छद्म राष्ट्रवाद की पहचान
Mahender Singh Hans
💐💐 सूत्रधार 💐💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
आज फिर
Rashmi Sanjay
नवगीत
Sushila Joshi
खुद को न मिटने दो
Anamika Singh
मैं हासिल नही हूं।
Taj Mohammad
रक्षाबंधन
Utsav Kumar Aarya
तब मुझसे मत करना कोई सवाल तुम
gurudeenverma198
करवा चौथ
Manoj Tanan
नशामुक्ति (भोजपुरी लोकगीत)
संजीव शुक्ल 'सचिन'
बात होती है सब नसीबों की।
सत्य कुमार प्रेमी
हम आज भी हैं आपके.....
अश्क चिरैयाकोटी
बरसात आई झूम के...
Buddha Prakash
बरसात की छतरी
Buddha Prakash
✍️बात बात में..✍️
'अशांत' शेखर
इश्क है क्या
Anamika Singh
शब्दों के एहसास गुम से जाते हैं।
Manisha Manjari
वो इश्क है किस काम का
Ram Krishan Rastogi
सास और बहु
Vikas Sharma'Shivaaya'
धीरता संग रखो धैर्य
Dr.Alpa Amin
आज की नारी हूँ
Anamika Singh
बाबा भैरण के जनैत छी ?
श्रीहर्ष आचार्य
रक्षा बंधन :दोहे
Sushila Joshi
Loading...