Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Jun 2022 · 1 min read

‘परिवर्तन’

‘परिवर्तन’
कभी भरा दिखता था जो,
निकला वो, खाली बरतन।
सोच बदलती है मानव की,
बदले प्रतिपल यह मन।।

नया जोश, ले स्वप्न नवल,
आ गया, दहकता यौवन।
वृद्धावस्था लगी पूछने,
कहाँ गया, वो बचपन।।

सरिता ठहरी कहाँ,
सदा बहती रहती है, अविरल।
कर अशुद्धियाँ दूर,
रखे निर्मल पर, वह अपना जल।।

बीज, बन गया वृक्ष,
लदा पत्तों, फूलों से तन अब।
धन्य हो गया पथिक,
दूर पल भर मेँ हुई थकन सब।।

बरस, मेघ हैं कर देते,
पल मेँ ही मानो, जल-थल।
आज वहाँ हरियाली,
जो कल तक था, एक मरुस्थल।।

“आशा”आज, निराशा थी कल,
समय बदलता हर पल।
आह जहाँ थी, कल तक,
क्यों है आज वहाँ, ध्वनि करतल।।

जीव नश्वर ,है ब्रह्म शाश्वत,
अकथ कथा है जीवन।
सार समझने बैठे ज्ञानी,
होते वो भी हतप्रभ।

धरा घूमती स्वयं, धुरी पर,
निश्चित है परिवर्तन।
चार दिनों का मेला,
क्यों ना हँसी-ख़ुशी जी, रे मन..!

##———-##———-##——— -##——–

रचयिता
Dr.asha kumar rastogi
M.D.(Medicine), DTCD
Ex.Senior Consultant Physician, district hospital, Moradabad.
Presently working as Consultant Physician and Cardiologist, sri Dwarika hospital, near sbi Muhamdi, dist Lakhimpur kheri U.P. 262804 M.9415559964

Language: Hindi
Tag: गीत
23 Likes · 19 Comments · 391 Views
You may also like:
जल
Saraswati Bajpai
जिन्दगी का जमूरा
Anamika Singh
ऐ मां वो गुज़रा जमाना याद आता है।
Abhishek Pandey Abhi
एक शे'र
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
भारतीय युवा
AMRESH KUMAR VERMA
🕯️🕯️मैं चराग़ बनकर जल रहा हूँ🕯️🕯️
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
सच
विशाल शुक्ल
कई सूर्य अस्त हो जाते हैं
कवि दीपक बवेजा
वेदना जब विरह की...
अश्क चिरैयाकोटी
# तेल लगा के .....
Chinta netam " मन "
दोस्त हो जो मेरे पास आओ कभी।
सत्य कुमार प्रेमी
'भारत की प्रथम नागरिक'
Godambari Negi
दिल के जख्म कैसे दिखाए आपको
Ram Krishan Rastogi
समय का महत्व ।
Nishant prakhar
तेरा हर लाल सरदार बने
Ashish Kumar
साधु न भूखा जाय
श्री रमण 'श्रीपद्'
जनसंख्या नियंत्रण कानून कब ?
Deepak Kohli
मुक्तक
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
खुद से प्यार
लक्ष्मी सिंह
पितृ नभो: भव:।
Taj Mohammad
*दादा जी के टूटे सारे दॉंत, पोपला मुख है (गीत)*
Ravi Prakash
रफ़्तार के लिए (ghazal by Vinit Singh Shayar)
Vinit kumar
पैसे का विस्तार
Buddha Prakash
नन्हें फूलों की नादानियाँ
DESH RAJ
सृजन
Prakash Chandra
दो दिन का प्यार था छोरी , दो दिन में...
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
नजदीक
जय लगन कुमार हैप्पी
बदरवा जल्दी आव ना
सिद्धार्थ गोरखपुरी
हे गणपति गणराज शुभंकर
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
हौंसलों की कमी नहीं लेकिन ।
Dr fauzia Naseem shad
Loading...