Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#28 Trending Author

‘परिवर्तन’

‘परिवर्तन’
कभी भरा दिखता था जो,
निकला वो, खाली बरतन।
सोच बदलती है मानव की,
बदले प्रतिपल यह मन।।

नया जोश, ले स्वप्न नवल,
आ गया, दहकता यौवन।
वृद्धावस्था लगी पूछने,
कहाँ गया, वो बचपन।।

सरिता ठहरी कहाँ,
सदा बहती रहती है, अविरल।
कर अशुद्धियाँ दूर,
रखे निर्मल पर, वह अपना जल।।

बीज, बन गया वृक्ष,
लदा पत्तों, फूलों से तन अब।
धन्य हो गया पथिक,
दूर पल भर मेँ हुई थकन सब।।

बरस, मेघ हैं कर देते,
पल मेँ ही मानो, जल-थल।
आज वहाँ हरियाली,
जो कल तक था, एक मरुस्थल।।

“आशा”आज, निराशा थी कल,
समय बदलता हर पल।
आह जहाँ थी, कल तक,
क्यों है आज वहाँ, ध्वनि करतल।।

जीव नश्वर ,है ब्रह्म शाश्वत,
अकथ कथा है जीवन।
सार समझने बैठे ज्ञानी,
होते वो भी हतप्रभ।

धरा घूमती स्वयं, धुरी पर,
निश्चित है परिवर्तन।
चार दिनों का मेला,
क्यों ना हँसी-ख़ुशी जी, रे मन..!

##———-##———-##——— -##——–

रचयिता
Dr.asha kumar rastogi
M.D.(Medicine), DTCD
Ex.Senior Consultant Physician, district hospital, Moradabad.
Presently working as Consultant Physician and Cardiologist, sri Dwarika hospital, near sbi Muhamdi, dist Lakhimpur kheri U.P. 262804 M.9415559964

23 Likes · 19 Comments · 223 Views
You may also like:
बरसात की झड़ी ।
Buddha Prakash
रसूल ए खुदा।
Taj Mohammad
✍️गलती ✍️
Vaishnavi Gupta
जीवन की दुर्दशा
Dr fauzia Naseem shad
मेरा सुकूं चैन ले गए।
Taj Mohammad
बेचैनियाँ फिर कभी
Dr fauzia Naseem shad
*स्वर्गीय श्री जय किशन चौरसिया : न थके न हारे*
Ravi Prakash
कूड़े के ढेर में भी
Dr fauzia Naseem shad
मां जैसा कोई ना।
Taj Mohammad
समझता है सबसे बड़ा हो गया।
सत्य कुमार प्रेमी
*आज बरसात है (मुक्तक)*
Ravi Prakash
आज भी याद है।
Taj Mohammad
जहर कहां से आया
Dr. Rajeev Jain
पापा की परी...
Sapna K S
हमारा दिल।
Taj Mohammad
" सामोद वीर हनुमान जी "
Dr Meenu Poonia
यश तुम्हारा भी होगा
Rj Anand Prajapati
✍️अच्छे दिन✍️
"अशांत" शेखर
अविश्वास
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
ज़िंदगी में न ज़िंदगी देखी
Dr fauzia Naseem shad
दिल ज़रूरी है
Dr fauzia Naseem shad
आईनें में सूरत।
Taj Mohammad
काश....! तू मौन ही रहता....
Dr. Pratibha Mahi
वक्त का खेल
AMRESH KUMAR VERMA
#आर्या को जन्मदिन की बधाई#
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
स्मृति : पंडित प्रकाश चंद्र जी
Ravi Prakash
क्या लिखूं मैं मां के बारे में
Krishan Singh
अपनी ख़्वाहिशों को
Dr fauzia Naseem shad
तनिक पास आ तो सही...!
Dr. Pratibha Mahi
✍️बेवफ़ा मोहब्बत✍️
"अशांत" शेखर
Loading...