Feb 17, 2017 · 1 min read

परिधि…

इन्द्रधनुष में लिपटे होते हैं कई रंग
तैरते उसकी देह पर
स्थापित होते हैं
एक छोर से दूसरी छोर तक
रंगों में प्रवेश करती है
बारिश की बूँदें…टप टप
और एक तीक्ष्ण किरण
शायद बनाती एक नदी या ठहरा पानी
जिसके ऊपर चमकती है
वह भेदती तेज धूप
बनाती कुछ तस्वीरें
शून्य लुढ़कता है
अतंस ऊर्जा लिए
शून्य की परिधि…….

128 Views
You may also like:
क्या कहते हो हमसे।
Taj Mohammad
"हमारी मातृभाषा हिन्दी"
Prabhudayal Raniwal
सितम पर सितम।
Taj Mohammad
सोचता रहता है वह
gurudeenverma198
पिया-मिलन
Kanchan Khanna
हनुमंता
Dhirendra Panchal
समीक्षा -'रचनाकार पत्रिका' संपादक 'संजीत सिंह यश'
Rashmi Sanjay
Little baby !
Buddha Prakash
तप रहे हैं दिन घनेरे / (तपन का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
ज़माने की नज़र से।
Taj Mohammad
ज़ाफ़रानी
Anoop Sonsi
# हे राम ...
Chinta netam मन
【29】!!*!! करवाचौथ !!*!!
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
खाली मन से लिखी गई कविता क्या होगी
Sadanand Kumar
प्यार भरे गीत
Dr.sima
मां
Anjana Jain
!! ये पत्थर नहीं दिल है मेरा !!
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
खुद को तुम पहचानो नारी [भाग २]
Anamika Singh
नीम का छाँव लेकर
सिद्धार्थ गोरखपुरी
हायकु
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
Motivation ! Motivation ! Motivation !
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
दिल मुझसे लगाकर,औरों से लगाया न करो
Ram Krishan Rastogi
"भोर"
Ajit Kumar "Karn"
आजमाइशें।
Taj Mohammad
मन को मोह लेते हैं।
Taj Mohammad
हायकु मुक्तक-पिता
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
आलिंगन हो जानें दो।
Taj Mohammad
"सुकून"
Lohit Tamta
** बेटी की बिदाई का दर्द **
Dr. Alpa H.
एक पल,विविध आयाम..!
मनोज कर्ण
Loading...