Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

परिकल्पना

बंद आंखों से एक , हीर को देखता हूं मैं ।
तेरे वादों में अपने, जमीर को देखता हूं मैं । ।
ताज – ओ- तख्त, रोशन -ए- बाहर का मौसम है ।
तेरी जुल्फों में अपनी , तक़दीर को देखता हूं मैं ।।
एक रोज चुरा ही लूंगा तेरे होंठो से प्यार की शबनम।
दिल का बादशाह हूं तुझमें अपनी,बेनज़ीर को देखता हूं मैं।।
रोशन -ए -चिराग हो जाते हैं , जाग जाती हैं उमंगे दिल में।
होंठो पे लिए मुस्कान जब भी तेरी, तस्वीर को देखता हूं मैं।।

2 Likes · 56 Views
You may also like:
मेरे गाँव में होने लगा है शामिल थोड़ा शहर [प्रथम...
AJAY AMITABH SUMAN
छोड़ दो बांटना
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
*राजा राम सिंह : रामपुर और मुरादाबाद के पितामह*
Ravi Prakash
प्रश्न पूछता है यह बच्चा
अटल मुरादाबादी, ओज व व्यंग कवि
ये कैसा बेटी बाप का रिश्ता है?
Taj Mohammad
मिसाल (कविता)
Kanchan Khanna
“ THANKS नहि श्रेष्ठ केँ प्रणाम करू “
DrLakshman Jha Parimal
उनकी यादें
Ram Krishan Rastogi
आई राखी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
चेहरे पर चेहरे लगा लो।
Taj Mohammad
चाल कुछ ऐसी चल गया कोई।
सत्य कुमार प्रेमी
प्रियतम
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
अच्छा मित्र कौन ? लेख - शिवकुमार बिलगरामी
Shivkumar Bilagrami
मयखाने
Vikas Sharma'Shivaaya'
💐 निगोड़ी बिजली 💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
तुमसे अगर प्यार अगर सच्चा न होता
gurudeenverma198
गुनहगार बन गए है।
Taj Mohammad
अजब कहानी है।
Taj Mohammad
संघर्ष
Rakesh Pathak Kathara
कवि का परिचय( पं बृजेश कुमार नायक का परिचय)
Pt. Brajesh Kumar Nayak
*राखी (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
कविता " बोध "
vishwambhar pandey vyagra
दया करो भगवान
Buddha Prakash
अनुपम माँ का स्नेह
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
पिता
Dr.Priya Soni Khare
Be A Spritual Human
Buddha Prakash
हम हैं
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
जिंदगी की रेस
DESH RAJ
नन्हीं बाल-कविताएँ
Kanchan Khanna
वह प्यार कैसा होगा
Anamika Singh
Loading...