Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Sep 8, 2017 · 1 min read

परिंदों के लिए तो आशियाना चाहिए

बह्र-रमल मुसम्मन महज़ूफ
वज़्न – 2122 2122 2122 212
ग़ज़ल
अब हमें अपना जनमदिन यूं मनाना चाहिए।
कल्पतरू अभियान में पौधे लगाना चाहिए।।

घुल गया कितना जहर आबो-हवा में दोस्तों।
जिंदा रहना तो अब सांसों का होना चाहिए।।

हम तो परजीवी है जीने को सहारा चाहिए।
जो सहारा दे रहे न अब मिटाना चाहिए।

हमने ईंटों पत्थरों से चुन लिए अपने मकां ।
पर परिंदों के लिए तो आशियाना चाहिए।।

छीन ली हरियाली हमने हो गई बेआबरू ।
खो गई वसुधा की चूनर अब उढ़ाना चाहिए।

मेरा आंगन या तेरा घर फर्क इसमे क्या “अनीश”।
है जरूरी पेड़ बस पेड़ों को होना चाहिए ।।
@nish shah

कल्पतरू अभियान सांईखेड़ा को सादर समर्पित

318 Views
You may also like:
कैसा हो सरपंच हमारा / (समसामयिक गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पिता
Kanchan Khanna
आतुरता
अंजनीत निज्जर
फहराये तिरंगा ।
Buddha Prakash
बाबूजी! आती याद
श्री रमण 'श्रीपद्'
हमको जो समझे हमीं सा ।
Dr fauzia Naseem shad
पिता के रिश्ते में फर्क होता है।
Taj Mohammad
परिवाद झगड़े
ईश्वर दयाल गोस्वामी
अनामिका के विचार
Anamika Singh
प्रकृति के चंचल नयन
मनोज कर्ण
आजादी अभी नहीं पूरी / (समकालीन गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
✍️बदल गए है ✍️
Vaishnavi Gupta
पापा करते हो प्यार इतना ।
Buddha Prakash
कुछ नहीं इंसान को
Dr fauzia Naseem shad
बच्चों के पिता
Dr. Kishan Karigar
यादें
kausikigupta315
कन्यादान क्यों और किसलिए [भाग१]
Anamika Singh
माँ की परिभाषा मैं दूँ कैसे?
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
* सत्य,"मीठा या कड़वा" *
मनोज कर्ण
वक़्त किसे कहते हैं
Dr fauzia Naseem shad
जादूगर......
Vaishnavi Gupta
पितृ स्तुति
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
चराग़ों को जलाने से
Shivkumar Bilagrami
छीन लिए है जब हक़ सारे तुमने
Ram Krishan Rastogi
बारिश की बौछार
Shriyansh Gupta
सब अपने नसीबों का
Dr fauzia Naseem shad
मिट्टी की कीमत
निकेश कुमार ठाकुर
बुढ़ापे में अभी भी मजे लेता हूं
Ram Krishan Rastogi
सच और झूठ
श्री रमण 'श्रीपद्'
फौजी बनना कहाँ आसान है
Anamika Singh
Loading...