Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Jul 2016 · 1 min read

परायी दुनिया

परायी दुनिया

अपना दिल जब ये पूछें की दिलकश क्यों नज़ारे हैं
परायी लगती दुनिया में बह लगते क्यों हमारे हैं

ना उनसे तुम अलग रहना ,मैं कहता अपने दिल से हूँ
हम उनके बिन अधूरें है ,बह जीने के सहारे हैं

जीबन भर की सब खुशियाँ, उनके बिन अधूरी है
पाकर प्यार उनका हम ,उनसे सब कुछ हारे हैं

ना उनसे दूर हम जाएँ ,इनायत मेरे रब करना
आँखों के बह तारे है ,बह लगते हमको प्यारे हैं

पाते जब कभी उनको , तो आ जाती बहारे हैं
मैं कहता अपने दिल से हूँ ,सो दिलकश यूँ नज़ारे हैं

परायी दुनिया
मदन मोहन सक्सेना

Language: Hindi
Tag: गीत
371 Views
You may also like:
नात،،सारी दुनिया के गमों से मुज्तरिब दिल हो गया।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
★TIME IS THE TEACHER OF HUMAN ★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
प्रथम अभिव्यक्ति
मनोज कर्ण
'खिदमत'
Godambari Negi
अज्ञान
पीयूष धामी
दिल और चेहरा
shabina. Naaz
-- माता पिता --
गायक और लेखक अजीत कुमार तलवार
की बात
AJAY PRASAD
//स्वागत है:२०२२//
Prabhudayal Raniwal
मां शेरावाली
Seema 'Tu hai na'
वीर
लक्ष्मी सिंह
कैसे प्रणय गीत लिख जाऊँ
कुमार अविनाश केसर
निकलते हो अब तो तुम
gurudeenverma198
*फहराऍं आज तिरंगा (देशभक्ति गीत)*
Ravi Prakash
लाज नहीं लूटने दूंगा
कृष्णकांत गुर्जर
*** वीरता
Prabhavari Jha
अपने किरदार को
Dr fauzia Naseem shad
मेरी रातों की नींद क्यों चुराते हो
Ram Krishan Rastogi
दीप आवाहन दोहा एकादश
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
आंखों के दपर्ण में
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
उपहार
विजय कुमार 'विजय'
देश के नौजवानों
Anamika Singh
तेरी याद
Umender kumar
डर आजादी का
AJAY AMITABH SUMAN
आया रक्षा बंधन
जगदीश लववंशी
दुर्गा पूजा विषर्जन
Rupesh Thakur
सबका मालिक होता है।
Taj Mohammad
शीर्षक: "मैं तेरे शहर आ भी जाऊं तो"
MSW Sunil SainiCENA
में हूं हिन्दुस्तान
Irshad Aatif
✍️एक ख़ता✍️
'अशांत' शेखर
Loading...