Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 1, 2021 · 2 min read

परम्पराओं की बेड़ियां

नमन मंच
शीर्षक- परम्पराओं की बेड़ियां

क्यों रखना चाहते हो मुझे ताउम्र
यूँ ही परंपराओं की बेड़ियों में
कभी देखा तो होता मेरे मन के भाव को
क्या चाहती हूँ मैं चलना चाहा मैंने भी स्वच्छंद
मेरी भी इच्छाएं हैं कुछ चाह हैं मेरी भी
पुरानी पसरम्पराओं में कब तक जकड़ी रहूँगी मैं।
क्या हैं मेरे प्रश्नों का उत्तर किसी के पास..?

मैं स्वयं में पूर्ण हूँ क्योंकि तुम सब की जन्म दात्री हूँ
प्रकृति में मुझे सम्मान दिया हैं रचयिता का और ये क्या
तुमने मुझे एक वस्तु मात्र ही समझ इस्तेमाल किया
अपनी शीतल छाँव प्रेम की देकर पालती रही हूँ तुम्हें
अपना वजूद खो तुमको पहचान दिलाती रही मैं
तो क्यों मुझे इन बेड़ियों में रखना चाहते हैं सब अब भी।
क्या हैं मेरे प्रश्नों का उत्तर किसी के पास..?

हर बात पर मुझे क्यों नीचा दिखाने की होती कोशिश
मुझे ये बेटी होने की जो बेड़ियाँ डाली गई हैं अब
मैं नहीं रह सकती हूँ तुम्हारी इन झूठी परंपराओं में
नहीं चाहिए साथ भी किसी का इनको तोड़ने में
आज सक्षम हूँ मैं स्वयं ही रूढ़िवाद से निकलने को
अब तक नजर अंदाज हुई मैं पर अब नही बस नहीं
क्या हैं मेरे प्रश्नों का उत्तर किसी के पास..?

मौका तो दो क्या नहीं कर सकती हम बेटियां
आज भी घर की चौखट की रौनक होती हैं बेटियां
शिक्षित होकर कहाँ तक नहीं पहुँच सकती बेटियां
अपना ही नही आपका नाम भी कर सकती हैं बेटियां
उन्मुक्त उड़ने दो उसको भी खुले अंतरिक्ष में
फैलने दो उनके पंख भी इस सुंदर से संसार चमन में।
क्या हैं मेरे प्रश्नों का उत्तर किसी के पास…?

हौंसला दो इनको भी उड़ान भरने का जरा
बेटे के समान ही जन्म मिलता हैं ये सोचना जरा
खुद तोड़े ये बंधन बेटी तो तुम ही कर दो स्वच्छंद जरा
टूट न जाये उसका हौंसला आगे बढ़कर आगे आओ जरा
आज शिक्षित हो बेटी खोलो स्वयं इन बेड़ियों को जरा
मैं भी आज साथ खड़ी हूँ तुम बंधन खोलो तो जरा।
क्या हैं मेरे प्रश्नों का उत्तर किसी के पास..?

डॉ मंजु सैनी
गाजियाबाद
घोषणा:स्वरचित रचना

1 Like · 128 Views
You may also like:
थक चुकी हूं मैं
Shriyansh Gupta
शुभ स्वतंत्रता दिवस मनाए
Pt. Brajesh Kumar Nayak
झुलसता पर्यावरण / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मोरे मन-मंदिर....।
Kanchan Khanna
मन पीर कैसे सहूँ
Dr. Sunita Singh
खुश रहना
dks.lhp
मन के गाँव
Anamika Singh
मुझको रूलाया है।
Taj Mohammad
पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी, एक सच्चे इंसान थे
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
जानें किसकी तलाश है।
Taj Mohammad
स्वर्गीय श्री पुष्पेंद्र वर्णवाल जी का एक पत्र : मधुर...
Ravi Prakash
आंसूओं की नमी का क्या करते
Dr fauzia Naseem shad
आजादी
AMRESH KUMAR VERMA
पिता
Anis Shah
"সালগিরহ"
DrLakshman Jha Parimal
मुर्गा बेचारा...
मनोज कर्ण
अवधी की आधुनिक प्रबंध धारा: हिंदी का अद्भुत संदोह
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
हरीतिमा स्वंहृदय में
Varun Singh Gautam
मैं धरती पर नीर हूं निर्मल, जीवन मैं ही चलाता...
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
सुखला से सावन के आहत किसान बा।।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
हम तेरे रोकने से
Dr fauzia Naseem shad
परिवाद झगड़े
ईश्वर दयाल गोस्वामी
सिपाही
Buddha Prakash
जिन्दगी तेरा फलसफा।
Taj Mohammad
पढ़ाई-लिखाई एक बोझ
AMRESH KUMAR VERMA
तुम मुझे सोच
Dr fauzia Naseem shad
*सादा जीवन उच्च विचार के धनी कविवर रूप किशोर गुप्ता...
Ravi Prakash
जश्न आजादी का
Kanchan Khanna
✍️मुतअस्सिर✍️
"अशांत" शेखर
“हिमांचल दर्शन “
DrLakshman Jha Parimal
Loading...