Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

परम्पराओं का पालन या अँध बिश्बास का खेल (करबा चौथ )

परम्पराओं का पालन या अँध बिश्बास का खेल (करबा चौथ )

करवाचौथ के दिन
भारतबर्ष में सुहागिनें
अपने पति की लम्बी उम्र के लिए
चाँद दिखने तक निर्जला उपबास रखती है .
पति पत्नी का रिश्ता समस्त
इस धरती पर सबसे जरुरी और पवित्र रिश्ता है
आज के इस दौर में जब सब लोग
एक दुसरे की जान लेने पर तुलें हुयें हों
तो आजकल पत्नी का पति के लिए उपवास रखना
किसी अजूबे से कम नहीं हैं।
कहाबत है कि करवा चौथ का व्रत रखने से
पति की आयु बढती है और प्यार भी
तो क्या जिनके खानदान में ये परंपरा है
क्या वहां कोई विधवा नहीं होती
और वहां कभी कोई तलाक नहीं हुआ
अगर ऐसा नहीं है तो फिर क्यूं ये दिखावा
ऐसें भी दम्पति हैं सारे साल लड़ते झगड़ते है
और फिर ये दिखावा करते है
क्या जो महिलाये ये व्रत नहीं रखती
वो अपने पति से प्यार नहीं करती
क्या उनके मन में
अपने पति की उम्र की लम्बी कामना नहीं होती
क्या वे विधवा हो जाती है
नहीं ऐसा कुछ नहीं होता
हम सब ये सब जानते हैं
फिर भी ये परंपरा निभाते चले जाते है
ये अंधविश्वास नहीं तो और क्या है
आज जरुरत है पुराने अंधविश्वास को छोड़कर
नयी मान्यताओ को लेकर आगे बढना
जिसका कोई ठोस मकसद हो
वेसे भी क्या एक दिन ही काफी है
पति के लम्बी उम्र की कामना के लिए
बाकी के दिन नहीं
अगर हर रोज ये कामना करनी हैं
फिर ये करवा चौथ क्यों ?
आज के समय में
जरुरत है कि
नयी परम्पराओं को जन्म देकर
आपसी रिश्ता
कैसे मजबूत कर सकें
परस्पर मिलकर खोज करने की।

मेरी पत्नी को समर्पित एक कबिता :

*******************************************************
अर्पण आज तुमको हैं जीवन भर की सब खुशियाँ
पल भर भी न तुम हमसे जीवन में जुदा होना
रहना तुम सदा मेरे दिल में दिल में ही खुदा बनकर
ना हमसे दूर जाना तुम और ना हमसे खफा होना

अपनी तो तमन्ना है सदा हर पल ही मुस्काओ
सदा तुम पास हो मेरे ,ना हमसे दूर हो पाओ
तुम्हारे साथ जीना है तुम्हारें साथ मरना है
तुम्हारा साथ काफी हैं बाकी फिर क्या करना है

अनोखा प्यार का बंधन इसे तुम तोड़ ना देना
पराया जान हमको अकेला छोड़ ना देना
रहकर दूर तुमसे हम जियें तो बह सजा होगी
ना पायें गर तुम्हें दिल में तो ये मेरी खता होगी

परम्पराओं का पालन या अँध बिश्बास का खेल
(करबा चौथ )

मदन मोहन सक्सेना

1 Comment · 284 Views
You may also like:
समय ।
Kanchan sarda Malu
वृक्ष थे छायादार पिताजी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
गीत
शेख़ जाफ़र खान
बेटी का पत्र माँ के नाम
Anamika Singh
टूटा हुआ दिल
Anamika Singh
विश्व फादर्स डे पर शुभकामनाएं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
【6】** माँ **
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
"मेरे पिता"
vikkychandel90 विक्की चंदेल (साहिब)
पिता क्या है?
Varsha Chaurasiya
यादें वो बचपन के
Khushboo Khatoon
"कुछ तुम बदलो कुछ हम बदलें"
Ajit Kumar "Karn"
ज़िंदगी को चुना
अंजनीत निज्जर
चमचागिरी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
काफ़िर का ईमाँ
DEVSHREE PAREEK 'ARPITA'
✍️कलम ही काफी है ✍️
Vaishnavi Gupta
कैसा हो सरपंच हमारा / (समसामयिक गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
तुम वही ख़्वाब मेरी आंखों का
Dr fauzia Naseem shad
✍️इंतज़ार✍️
Vaishnavi Gupta
मुँह इंदियारे जागे दद्दा / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
नित नए संघर्ष करो (मजदूर दिवस)
श्री रमण 'श्रीपद्'
बदलते हुए लोग
kausikigupta315
मै पैसा हूं दोस्तो मेरे रूप बने है अनेक
Ram Krishan Rastogi
चोट गहरी थी मेरे ज़ख़्मों की
Dr fauzia Naseem shad
"फिर से चिपको"
पंकज कुमार कर्ण
अब और नहीं सोचो
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
सिर्फ तुम
Seema 'Tu haina'
बंदर भैया
Buddha Prakash
काश मेरा बचपन फिर आता
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
बस एक निवाला अपने हिस्से का खिला कर तो देखो।
Gouri tiwari
बरसाती कुण्डलिया नवमी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Loading...