Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Feb 8, 2017 · 1 min read

परदेश

एक दिन परदेश छोड़कर तुझे दूर अपने “देश ” है जाना ,
सखी, तू क्यों होती है उदास , तुझे “पिया” घर है जाना I
रिश्ते- नाते छोड़कर तुझे “पिया” की नगरी में है घर बसाना,
उस नगरी में तुझे “परदेश” का सारा अच्छा- बुरा है बताना I
“राज” अगर पहले जान जाता तो परदेश को पक्का ठिकाना न बनाता,
अगर छोड़कर दूसरे “देश” जाना ही है, तो इतना मोह कभी न बढाता I

देशराज “राज”
कानपुर

1 Comment · 774 Views
You may also like:
.✍️वो थे इसीलिये हम है...✍️
'अशांत' शेखर
लोकमाता अहिल्याबाई होलकर
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
# निनाद .....
Chinta netam " मन "
हमसे न अब करो
Dr fauzia Naseem shad
मुखौटा
संदीप सागर (चिराग)
"आम की महिमा"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
क्या क्या हम भूल चुके है
Ram Krishan Rastogi
वर्तमान से वक्त बचा लो तुम निज के निर्माण में...
AJAY AMITABH SUMAN
प्रतीक्षा करना पड़ता।
Vijaykumar Gundal
#मजबूरी
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
मेरा दिल गया
Swami Ganganiya
🌺🌺प्रेम की राह पर-47🌺🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
इश्क की तपिश
Seema Tuhaina
ठाकरे को ठोकर
Rj Anand Prajapati
*स्वर्गीय कैलाश चंद्र अग्रवाल की काव्य साधना में वियोग की...
Ravi Prakash
बँटवारे का दर्द
मनोज कर्ण
अपना राह तुम खुद बनाओ
Anamika Singh
किस राह के हो अनुरागी
AJAY AMITABH SUMAN
तन्हाई के आलम में।
Taj Mohammad
ए- वृहत् महामारी गरीबी
AMRESH KUMAR VERMA
नाशवंत आणि अविनाशी
Shyam Sundar Subramanian
तुम्हें सुकूँ सा मिले।
Taj Mohammad
किसको बुरा कहें यहाँ अच्छा किसे कहें
Dr Archana Gupta
कबीर साहेब की शिक्षाएं
vikash Kumar Nidan
हम पे सितम था।
Taj Mohammad
✍️मुझे तेरी तलाश नहीं✍️
'अशांत' शेखर
# बारिश का मौसम .....
Chinta netam " मन "
चलो जहाँ की रूसवाईयों से दूर चलें
VINOD KUMAR CHAUHAN
गज़लें
AJAY PRASAD
आओ मिलकर वृक्ष लगाएँ
Utsav Kumar Aarya
Loading...