#1 Trending Author
May 12, 2022 · 1 min read

परछाई से वार्तालाप

पूछ लिया मैने परछाई से आज,
क्यो तू चलती है मेरे साथ साथ।
परछाई ने भी हंस कर पूछ लिया,
बता,कौन चलता है तेरे साथ साथ।।

चलती हूं सदैव निस्वार्थ मै तेरे साथ,
लोगो का साथ मिलता स्वार्थ के साथ।
बता तूही स्वार्थी है कौन तेरे लिए,
जो छोड़ देते है तुझे स्वार्थ के साथ।।

मै घूमती रही दिन भर तेरे ही साथ,
हर सफ़र में मिलाया तेरे से हाथ।
बता,अंधेरे में छोड़ कर जाता तू कहां,
मै ढूंढती रहती हूं तुझे अंधेरों के साथ।।

चलती हूं मै बिना परख के तेरे साथ,
छोड़ देते है तुझे लोग परखने के बाद।
तू क्यों नही परखता सभी लोगो को,
जो चलते है तेरी ज़िंदगी के हमेशा
साथ।।

आर के रस्तोगी गुरुग्राम

2 Likes · 3 Comments · 57 Views
You may also like:
माँ, हर बचपन का भगवान
Pt. Brajesh Kumar Nayak
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
खेत
Buddha Prakash
* अदृश्य ऊर्जा *
Dr. Alpa H.
कलियों को फूल बनते देखा है।
Taj Mohammad
घनाक्षरी छन्द
शेख़ जाफ़र खान
झरने और कवि का वार्तालाप
Ram Krishan Rastogi
सद्आत्मा शिवाला
Pt. Brajesh Kumar Nayak
महाभारत की नींव
ओनिका सेतिया 'अनु '
'दुष्टों का नाश करें' (ओज - रस)
Vishnu Prasad 'panchotiya'
(((मन नहीं लगता)))
दिनेश एल० "जैहिंद"
¡*¡ हम पंछी : कोई हमें बचा लो ¡*¡
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
ठोकर तमाम खा के....
अश्क चिरैयाकोटी
शायरी ने बर्बाद कर दिया |
Dheerendra Panchal
शिव स्तुति
अभिनव मिश्र अदम्य
**अशुद्ध अछूत - नारी **
DR ARUN KUMAR SHASTRI
बांस का चावल
सिद्धार्थ गोरखपुरी
ये दिल मेरा था, अब उनका हो गया
Ram Krishan Rastogi
!!*!! कोरोना मजबूत नहीं कमजोर है !!*!!
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
रुक जा रे पवन रुक जा ।
Buddha Prakash
वेदों की जननी... नमन तुझे,
मनोज कर्ण
💐प्रेम की राह पर-34💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
जलियांवाला बाग
Shriyansh Gupta
बस तुम्हारी कमी खलती है
Krishan Singh
तुम मेरी हो...
Sapna K S
हे परम पिता परमेश्वर, जग को बनाने वाले
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
माँ बाप का बटवारा
Ram Krishan Rastogi
सुधारने का वक्त
AMRESH KUMAR VERMA
प्रेम का आँगन
मनोज कर्ण
Loading...