Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jul 13, 2022 · 1 min read

पथ जीवन

पथ जीवन और क्या है ?
कभी धूप है कभी छाँव है।

रुकना नहीं तुझे चलना है।
बस चलता जा आगे बढ़ता जा
कभी छाँव का सुख लेता चल
कभी धूप में तुझे जलना है।

पथ जीवन और क्या है ?
कभी धूप है कभी छाँव है।

पथ यह नहीं आसान है।
कहीं फूल कहीं त्रिशूल भरे।
उलझन भरी इस राह पर
बस चलना ही तो चलना है।

पथ जीवन और क्या है ?
कभी धूप है कभी छाँव है।

पथ एक है दिशा एक है
जो आगे ही को जाती है।
एक कदम भी बढ़ा दिया
वापस पीछे नहीं रखना है।

पथ जीवन और क्या है ?
कभी धूप है कभी छाँव है।

पथ आगे ही को जाता यह
पीछे ओझल होता जाता है।
पीछे ताकने का प्रयास न कर
पीछे देखना एक धोखा है।

पथ जीवन और क्या है ?
कभी धूप है कभी छाँव है।

सुख की नदियाँ कहीं बहती है
कहीं दुखों के सरोवर है भरे।
मने देख इसे घबराता क्यों
सरोवर ही तो कमल खिलते हैं।

पथ जीवन और क्या है ?
कभी धूप है कभी छाँव है।

जब आगे ही को बढ़ना है
पीछे मुड़ मुड़ क्या देख रहा
‘विष्णु’ दृढ़ संकल्प कर मन में
अब पीछे नहीं तुझे हटना है।

पथ जीवन और क्या है ?
कभी धूप है कभी छाँव है।

-विष्णु प्रसाद ‘पाँचोटिया’

4 Likes · 2 Comments · 46 Views
You may also like:
माँ तेरी जैसी कोई नही।
Anamika Singh
मेरा अक्स तो आब है।
Taj Mohammad
themetics of love
DR ARUN KUMAR SHASTRI
कातिल ना मिला।
Taj Mohammad
रोटी संग मरते देखा
शेख़ जाफ़र खान
✍️✍️गांधी✍️✍️
'अशांत' शेखर
✍️मेरे अंतर्मन के गदर में..✍️
'अशांत' शेखर
नर्सिंग दिवस पर नमन
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
अगर की हमसे मोहब्बत
gurudeenverma198
🌺🌺Kill your sorrows with your willpower🌺🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
जीभ का कमाल
विजय कुमार अग्रवाल
धर्म निरपेक्ष चश्मा
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
लाल में तुम ग़ुलाब लगती हो
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
मुझे फ़िक्र है तुम्हारी
Dr fauzia Naseem shad
✍️मी परत शुन्य होणार नाही..!✍️
'अशांत' शेखर
शहर को क्या हुआ
Anamika Singh
साहित्यकारों से
Rakesh Pathak Kathara
शिक्षित बने ।
Buddha Prakash
रस्सियाँ पानी की (पुस्तक समीक्षा)
Ravi Prakash
तेरे मन मंदिर में जगह बनाऊं मै कैसे
Ram Krishan Rastogi
बिखरना
Vikas Sharma'Shivaaya'
ਆਹਟ
विनोद सिल्ला
तेरे बगैर।
Taj Mohammad
तुम मेरे नसीब मे न थे
Anamika Singh
आया सावन - पावन सुहवान
Rj Anand Prajapati
प्रकृति का उपहार
Anamika Singh
✍️बचपन से पचपन तक✍️
'अशांत' शेखर
नज़्म – "तेरी आँखें"
nadeemkhan24762
किसी ने कहा, पीड़ा को स्पर्श करना बंद कर पीड़ा...
Manisha Manjari
पिता की नसीहत
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Loading...