Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#11 Trending Author
May 3, 2022 · 1 min read

पत्ते ने अगर अपना रंग न बदला होता

पेड़ से जब पत्ता होता हैं जुदा
तो…दर्द पेड़ को भी हैं होता..!
पर… क्या करें…..
पत्ते ने अगर अपना रंग न बदला होता
तो… शायद वो पेड़ से जुदा न हुआ होता…!!!!

78 Views
You may also like:
मुसाफिर चलते रहना है
Rashmi Sanjay
ભીની ભીની લાગણી.....
Dr. Alpa H. Amin
बद्दुआ बन गए है।
Taj Mohammad
दया करो भगवान
Buddha Prakash
मुक्तक ( इंतिजार )
N.ksahu0007@writer
✍️क़ुर्बान मेरा जज़्बा हो✍️
"अशांत" शेखर
रूसवा है मुझसे जिंदगी
VINOD KUMAR CHAUHAN
“ शिष्टता के धेने रहू ”
DrLakshman Jha Parimal
मनोमंथन
Dr. Alpa H. Amin
शासन वही करता है
gurudeenverma198
फ़नकार समझते हैं Ghazal by Vinit Singh Shayar
Vinit Singh
मुकरिया__ चाय आसाम वाली
Manu Vashistha
सिपाही
Buddha Prakash
"जीवन"
Archana Shukla "Abhidha"
क्यों ना नये अनुभवों को अब साथ करें?
Manisha Manjari
पत्नी जब चैतन्य,तभी है मृदुल वसंत।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
नदी सदृश जीवन
Manisha Manjari
*पद्म विभूषण स्वर्गीय गुलाम मुस्तफा खान साहब से दो मुलाकातें*
Ravi Prakash
दोस्ती अपनी जगह है आशिकी अपनी जगह
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
आइना हूं मैं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मुकरियां_ गिलहरी
Manu Vashistha
गौरैया बोली मुझे बचाओ
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
सगुण
DR ARUN KUMAR SHASTRI
बे-पर्दे का हुस्न।
Taj Mohammad
प्यार भरे गीत
Dr.sima
Green Trees
Buddha Prakash
दिल का मोल
Vikas Sharma'Shivaaya'
पिता है भावनाओं का समंदर।
Taj Mohammad
कभी कभी।
Taj Mohammad
हिम्मत न हारों
Anamika Singh
Loading...