Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Feb 2023 · 1 min read

💐प्रेम कौतुक-190💐

पता है मुझे वो कैसे देख रहे हैं,जैसे सूरजमुखी सूरज को।

©®अभिषेक: पाराशरः “आनन्द”

Language: Hindi
51 Views
Join our official announcements group on Whatsapp & get all the major updates from Sahityapedia directly on Whatsapp.
You may also like:
"सुख"
Dr. Kishan tandon kranti
पत्र गया जीमेल से,
पत्र गया जीमेल से,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
शिक्षा मनुष्य के विकास की परवाह करता है,
शिक्षा मनुष्य के विकास की परवाह करता है,
Buddha Prakash
जिस दिन तुम हो गए विमुख जन जन से
जिस दिन तुम हो गए विमुख जन जन से
Prabhu Nath Chaturvedi
सत्यबोध
सत्यबोध
Bodhisatva kastooriya
पेड़ पौधों के प्रति मेरा वैज्ञानिक समर्पण
पेड़ पौधों के प्रति मेरा वैज्ञानिक समर्पण
Ms.Ankit Halke jha
भारत का संविधान
भारत का संविधान
Shekhar Chandra Mitra
छोड दो  उनको  उन  के  हाल  पे.......अब
छोड दो उनको उन के हाल पे.......अब
shabina. Naaz
रिश्ते रिसते रिसते रिस गए।
रिश्ते रिसते रिसते रिस गए।
Vindhya Prakash Mishra
हाँ, कल तक तू मेरा सपना थी
हाँ, कल तक तू मेरा सपना थी
gurudeenverma198
यहां
यहां "ट्रेंडिंग रचनाओं" का
*Author प्रणय प्रभात*
इस क्षितिज से उस क्षितिज तक देखने का शौक था,
इस क्षितिज से उस क्षितिज तक देखने का शौक था,
Smriti Singh
दोहे
दोहे
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
आतंकवाद
आतंकवाद
नेताम आर सी
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मेरी कलम
मेरी कलम
अभिषेक पाण्डेय ‘अभि ’
कैसा होगा कंटेंट सिनेमा के दौर में मसाला फिल्मों का भविष्य?
कैसा होगा कंटेंट सिनेमा के दौर में मसाला फिल्मों का भविष्य?
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
कोरोना तेरा शुक्रिया
कोरोना तेरा शुक्रिया
Sandeep Pande
माँ
माँ
नन्दलाल सुथार "राही"
चली जाऊं जब मैं इस जहां से.....
चली जाऊं जब मैं इस जहां से.....
Santosh Soni
नकलची बच्चा
नकलची बच्चा
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
ज़िन्दगी का सफ़र
ज़िन्दगी का सफ़र
Sidhartha Mishra
हमेशा..!!
हमेशा..!!
'अशांत' शेखर
दाता
दाता
निकेश कुमार ठाकुर
राहों में उनके कांटे बिछा दिए
राहों में उनके कांटे बिछा दिए
Tushar Singh
कुछ अपने रूठे,कुछ सपने टूटे,कुछ ख़्वाब अधूरे रहे गए,
कुछ अपने रूठे,कुछ सपने टूटे,कुछ ख़्वाब अधूरे रहे गए,
Vishal babu (vishu)
उतर के आया चेहरे का नकाब उसका,
उतर के आया चेहरे का नकाब उसका,
कवि दीपक बवेजा
*रिश्तों को जिंदा रखना है, तो संवाद जरूरी है【मुक्तक 】*
*रिश्तों को जिंदा रखना है, तो संवाद जरूरी है【मुक्तक 】*
Ravi Prakash
सूरज को ले आता कौन?
सूरज को ले आता कौन?
AJAY AMITABH SUMAN
💐अज्ञात के प्रति-136💐
💐अज्ञात के प्रति-136💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Loading...