Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

पटल समीक्षा- जय बुंदेली साहित्य समूह टीकमगढ़

*211वीं -आज की समीक्षा*

*समीक्षक – राजीव नामदेव राना लिधौरी’*

*दिन- सोमवार* *दिनांक 07-6-2021

*बिषय- *पथरा (बुंदेली दोहा लेखन)*

आज जय बुंदेली साहित्य समूह टीकमगढ़ के पटल पै *पथरा* बिषय पै *दोहा लेखन* कार्यशाला हती।आज भौत जनन ने दोहा रचे उर भौतई नोने दोहा रचे गये, पढ़ कै मन खुश हो गव।सो जितैक जनन नें लिखौ उने हम बधाई देत है कै कम सें कम नओ लिखवे की कोसिस तो करी है,भौत नोनों लगो।

आज हमारे दाऊ जयहिंंद सिंह जी मोटरसाइकिल पै से गिर परे हाथ में चोट लगी है। ईश्वर का शुक्र है कि अधिक चोट नहीं लगी हे। उनका मोबाइल आया था इसलिए लिए आज की चलताऊ समीक्षा हम लिख रय है।
आज तो हम मिल्ला बन गये सबसें पैला हमई ने तीन दोहा पटल दोहा पै फटकार दये- आज जनी मांस पथरा के हो गये कछु दया ममता नइ रई-

*1* राजीव नामदेव ‘राना लिधौरी’, टीकमगढ़ से लिखत है-
पथरा से वे हो गये,नइ पिघले वे जात।
जितनइ प्यार दऔ उनै,उतनइ वे गर्रात।।
जनी मांस तो हो गये,पथरा के हैं आज।
कौनउ कौ अब भय नहीं,कर रय निर्भय राज।।

*2* *श्री अशोक पटसारिया नादान जू लिधौरा* से कै रय कै- हम तौ डांग के पथरा हते हमें गुरु ने आदमी बनाओं सासी है गुरु की कृपा से ही चेला बडों बन जात है। नोने दोहे रचे बधाई।
हम पथरा ते डांग के,गुरु ने हमें बनाव।
संगत सें दिल में भरे,जीव दया के भाव।।
भवन भले उम्दा बनो,सबरे सुख सें सोत।
नीं के पथरा नइ दिखत,बजन उनइ पै होत।।

*3* *श्री जयहिन्द सिंह जयहिन्द,पलेरा* से लिख रय कै- पथरा में भगवान राम को नाम लिख देवे से वे डूबत नइया,आपने दोहन में बन्न बन्न के पथरा बताये है भौत नोने दोहा रचत है दाऊ बधाई पौचैं जू।
पथरा पगडंडी परे,पग पग परत पिटाइ।
शालिगराम शिला सबयी,सिंहासन सजवाइ।।
पथरा पथरा राम लिख,सागर पुल उतराय।
राम रेत रामेश्वरम्,शिव पूजन करवाय।।

*4* *श्री गुलाब सिंह यादव भाऊ लखौरा* लिखत है कै पथरा भौत खतरनाक होत है खेत में पर जाय तो कछु नइ होत। नोनौ लिखों। बधाई।
पथरा खतरा जानिवो,जा जैसें पर जाय।
खेत परे मिट जात है,मारे से जी जाय।।
दया धर्म न जानबै,पथरा बने शरीर।
ई दुनिया में देख लो,कैऊ है बे पीर।।

*5* *श्री प्रदीप खरे, मंजुल जू टीकमगढ़* से वियोग श्रृंगार में भौत अच्छै दोहा लिखत है- बधाई।
पथ को पथरा पांव में, लगत होय मन पीर।
पथरानी अंखियां पिय,तुम बिन धरत न धीर।।
पथरा कें पथरा भये,बिन सैयां के नैन।
हिय पै पथरा सौ धरें, नहीं जिया में चैन।

*6* *श्री संजय जी श्रीवास्तव,मवई (टीकमगढ़)* दिल्ली ने कन्यादान कौ भौत मार्मिक दृश्य दोहा में खैंचों है। भौत नोने दोहा रचे है। बधाई।
जी पे पथरा बाँद कें, कर दओ कन्यादान।
मोड़ी के सँग विदा भइ, घर की शोभा, शान।।
पथराई अँखियन बसी, परदेसी की प्रीत।
पल-पल,युग-युग सो लगे,पास नहीं मनमीत।।

*7* *श्री परम लाल जू तिवारी,खजुराहो* ने अपने दोहा में हास्य रस प्रयोग करते भये कुत्तन खौ खदेरवे को नोनो उपाय बताऔ है। पतरा हीरा बनकर अंगूठी में जड़ जात है। सुंदर दोहे है। बधाई महाराज।
कुत्ता भोंके गैल में,पथरा लेव उठाय।
देखत पथरा हाथ में,तुरत दूर भग जाय।।
चमकीला पथरा इतै,हीरा लौ बन जात।
वह अमूल हो जात है,जड़ो अँगूठी रात।।

*8* *श्री शोभाराम जी दाँगी नंदनवारा* से लिखरय है- कै कजन की दार श्रृद्धा हो तो पतरा में भगवान दिखत है। श्रृपा से मनुष्य भी पतरा बन जात है । नोने दोहे लिखे बधाई।
पथरा में भगवान बसैं, सिददा जीखों होय ।
सिददा सैवो भीलनी ,राम की भकतन होय ।।
सिरापत गौतम नारी ये ,भई “पथरा “में लीन ।
राम जूं के चरन छुवतइं, सजी नार बनदीन ।।

*9* *श्री डी.पी. शुक्ला’सरस’ जी टीकमगढ़* से कय है कै यदि पथरा बनने तो रामेश्वरम और मंदिर के बनना चाइए ताकि सदा पूजे जाऔ। उमदा दोहे। बधाई।
वे पथरा देखन चले,रामेश्वरम स्थान ।
नल नील चले बना पुल, वानर जूथ महान ।।
पथरा बनें मंदिर जहां,कारीगर अनुसार ।।
ना फूटियौ मद में तनक, मूरत बनवौ सार।।

*10* *श्री कल्याण दास जी साहू “पोषक”पृथ्वीपुर* से लिख रय कै- भगवान श्री राम की कृपा से पतरा भी तर जात है भौत नोने धार्मिक दोहे रचे। बधाई पोषक जी।
प्रभु-पग पथरा पै छुबे , चमत्कार सें युक्त ।
गौतम ऋषि की भार्या , भयी शाप सें मुक्त ।।

राम-नाम महिमा अजब , चमत्कार दिखलात ।
मानुष की तो बात काॅ , पथरा भी तिर जात ।।

*11* *श्री एस आर जी सरल,टीकमगढ़* ने अनुप्रास अलंकार का भौत नौनो परयोग दोहन में करो है शानदार दोहे रचे है। बधाई सरल जी्
पग पग पै पथरा परे,पाँव पाँव पै घाव।
परख परख पथरा पुजै,पनै पनै हैं भाव।।
पथरा परखै पारखी,पड़ पड़ पूरै मंत।
पल पल पथरा पूजकै,सिद्धा रखें अनंत।।

*12* *श्री रामेश्वर प्रसाद गुप्ता इंदु.बडागांव झांसी उप्र*.से लिखत है-मूर्ति को तराश कर उसमें प्राण फूंक देता है मूर्तिकार। अच्छे दोहे है। बधाई।
कलाकार कारीगरी, कर- कृति का निर्मान।
पाथर की मूरत लगे, जैसे हो भगवान।।
पाथर- पाथर पर लिखा, उसने जयश्रीराम।
सागर पर वह तैरते, पुल बनकर अभिराम।।

*13-* *श्री रामगोपाल जी रैकवार, टीकमगढ़* के क्या कहने बेहतरीन दोहे रचते है- वे कत है कै मील के पथरा बनो ताकि पथिक खों मंजिल को पतो परत रय। उत्कृष्ट दोहे रचे है बधाई।
पथरा है जो मील का,ठाँड़ो एकइ धाम।
मंजिल की देता खबर,भौत बड़ौ जौ काम।।
पथरा थे जो नींव के,उनखों दऔ भुलाय।
सज-धज कें ऊपर चढ़ो,कलस रऔ इतराय।।

14* श्री प्रभु दयाल जी श्रीवास्तव पीयूष टीकमगढ़* लिखत है कै नदियां के पतरा सालिगराम बन जात है और पूजे जात है। उमदा दोहे है बधाई।
पथरा नदी धसान के,बट्टूं बने दिखांयं।
दरबटना बनबें कछू, सालिगराम सुहांयं।।
कछु तौ पथरा गैल के,सब की ठोकर खात।
कछु मूरत के रूप में, घर घर पूजे जात।।

*15* *डॉ रेणु जी श्रीवास्तव भोपाल* से लिखतीं है कै पतरा में भौत ताकत होत है नीलम,हीरा आदि पथरा भाग बदल देत है। उमदा दोहे रचे है बधाई डॉ रेणु जी।
नक्काशी खजुराव की, पथरा भये सजीव।
ऐसे शिल्पी होत हैं,पथरन में दै जीव।।
पथरन में गुन भोत हैं, भाग बदल जे देत।
नीलम औ पुखराज जे, पन्ना हीर समेत।।

*16* *श्री राजगोस्वामी जू दतिया* से कत है के आस्था में इतनी दम है के पतरा के पूजवे से हरि मिल जात है। आचछे दोहे है। बधाई।
पथरा पटके पाव पै दूजिन को दे दोष ।
को समझाबै जाय के ऊ खो नइया होश ।।
पथरा पूजत हरि मिलत हरि मिलतन कल्यान ।
कह गए अपने व्यास जू रच गए वेद पुरान ।।

*17* *श्री लखनलाल जी सोनी छतरपुर* से लिखत है के सीना पै पथरा धरके लोग झूंटी कसम तक खा जात है। अच्छा लिखा है बधाई।
सीना पै “पथरा” धरो, तनकउ नही डरात ।
पाप कमाई करत में, झूंटी कसमें खात ।।

*18* *श्री अभिनन्दन गोइल जू इंदौर* से लिखत है कै- अक्कल पै पथरा परे तो मानव अभिमानी हो जात है सही है। नौनो लिखो है बधाई।
अक्कल पै पथरा परे, गयौ अखारथ ज्ञान।
जानों बूजों कछु नहीं,तोउ करों अभिमान।।
पथरा दिल की का कबें,का जानें वौ पीर।
भये भोंतरे छूट कें, कामदेव के तीर।।

*19* -श्री रामानन्द जी पाठक नंद नैगुवां* लिखत है कै मेनत करके आदमी पथरा पे भी कर खात है पै आलसी कछु नई कर पात है। बढ़िया दोहे है बधाई नंद जीऋ
मेंनत करि करतूतरौ,पथरा पै कर खात।
विन करें सब चाउत हैं, है अजगर की जात।।
इक पत्थर गडवांस कौ,सबकी ठोलें खात।
बइ पथरा मूरत बनें,जग के सबइ पुजात ।।

*20* *डॉ. सुशील शर्मा जी गाडरवाड़ा- से लिखत है कै- ककराज्ञपथरा जोर के झूठी शान के लिए हवेली तान लेत है। अच्छा लिखा है। बधाई।
पथरा सो हिरदय भओ,उनसे लड़ गए नैन।
आंखों में अंसुआ नहीं,लुट गओ जो सुख चैन।
ककरा पथरा जोर के,लइ हवेली तान।
हंसा फुर फुर उड़ गओ,रह गई झूठी शान।

*21* श्री वीरेन्द्र जी चंसौरिया टीकमगढ़ से कत है कै- जीके दिल में पथरा होत है वो दया, धरम कछु नई जानत है। नोनौ लिखो है। बधाई।
पथरा पै श्रद्धा जगी,पथरा भव भगवान।
सुबह शाम पूजा करत, करकें हम इसनान।।
दया धरम जानें नहीं,पथरा दिल इनसान।
फिर भी कैरय रोजउ,करौ मोव सम्मान।।

22- श्री रामलाल जी द्विवेदी प्राणेश ,कर्वी चित्रकूट जी ने बढ़िया दोहे रचे है परदेशी पिय की बाट जोहते हुए आंख पथरा गयी है।
हिय मंदिर में भाव हैं, तो पथरा में ईश।
भाव बिना ढूंढत फिरत, दीखें ना जगदीश।
परदेसी पिय जोहते ,पथ पथराए नैन ।
गुमसुम जीवन जी रई,टोकत मुश्किल बैन।

ई तरां सें आज पटल पै 22 कवियन ने अपने दोहा अपने अपने ढंग से पतरा से दोहा पटल पै पटके, पै जै दोहा तराशे भय पथरा हते जो हमाय दिल के मंदिर में बस गये है। पढ़ के भौत आनंद आ गऔ। निश्चित ही आज कछू दोहे कालजयी रचे गये है। बुंदेली दोहे के इतिहास में ये दोहे अपना स्थान जरुर बना लेंगे ऐसा मुझे विस्वास है। सभइ दोहाकारों को बधाई।

?*जय बुंदेली, जय बुन्देलखण्ड*?

*समीक्षक-
✍️राजीव नामदेव ‘राना लिधौरी’, टीकमगढ़ (मप्र)*

*एडमिन- जय बुंदेली साहित्य समूह टीकमगढ़*

166 Views
You may also like:
*राखी (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
अपने मन की मान
जगदीश लववंशी
खूबसूरत कुआं
Gaurav Dehariya साहित्य गौरव
अंतिमदर्शन
विनोद सिन्हा "सुदामा"
हमदर्द कैसे-कैसे
Shivkumar Bilagrami
दुआ
Alok Saxena
गम आ मिले।
Taj Mohammad
सागर ने लहरों से की है ये शिकायत।
Manisha Manjari
माँ तुम सबसे खूबसूरत हो
Anamika Singh
उसे कभी न ……
Rekha Drolia
अफसोस-कर्मण्य
Shyam Pandey
💐आत्म साक्षात्कार💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
पैसों से नेकियाँ बनाता है।
Taj Mohammad
तुम्हें डर कैसा .....
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
नसीब
DESH RAJ
वो दिन भी बहुत खूबसूरत थे
Krishan Singh
कुण्डलिया
शेख़ जाफ़र खान
मुझमें भारत तुझमें भारत
Rj Anand Prajapati
बदरवा जल्दी आव ना
सिद्धार्थ गोरखपुरी
महब्बत का यारो, यही है फ़साना
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
बच्चों को खूब लुभाते आम
Ashish Kumar
धड़कनों की सदा।
Taj Mohammad
बदलती दुनिया
AMRESH KUMAR VERMA
मेरे पीछे जमाना चले ओर आगे गन-धारी दो वीर हो!
Suraj Kushwaha
जिंदगी की फरमाइश - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
दिल्लगी
Harshvardhan "आवारा"
ख़्वाब सारे तो
Dr fauzia Naseem shad
ग़ज़ल- राना सवाल रखता है
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
रोज हम इम्तिहां दे सकेंगे नहीं
Dr Archana Gupta
✍️ये जरुरी नहीं✍️
'अशांत' शेखर
Loading...