Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 15, 2021 · 1 min read

पगली सहेली

थी एक मेरी पगली सी सहेली,
College के अंतिम दिनों मे मिली थी,
हमेसा मुझे पागल पागल बुलाया करती थी //

जो रूठ जाऊ तो हमेसा मनाया करती थी,
कुछ कह दू गलत, तो गम मे चूर हो जाया करती थी,
देख नहीं सकती थी मुझे problem मे,
इसलिए आँखों से पानी छलकाया करती थी //

थी एक पगली सी सहेली,
जो हमेसा पागल पागल बुलाया करती थी //

हमारे रूठने से उसे फर्क पड़ता था,
इसलिए हर बार मनाया करती थी,
जरा सी भी उसकी बातो पर हस दू..
तो टमाटर की तरह लाल हो जाया करती थी //

ज़ब बात ना करू उससे तो थोड़ी चिंताओं मे डूबी डूबी सी रहती थी,
और ज़ब बात चीत हो जाये चालू, तो बस खुलकर मुस्कुराया करती थी //

थी एक प्यारी पगली सी सहेली,
जो हमेसा पागल पागल बुलाया करती थी //

3 Likes · 169 Views
You may also like:
शायद...
Dr.Alpa Amin
मरने की इजाज़त
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
" tyranny of oppression "
DESH RAJ
कोई न अपना
AMRESH KUMAR VERMA
गरीब की बारिश
AMRESH KUMAR VERMA
माँ की याद
Meenakshi Nagar
💐 गुजरती शाम के पैग़ाम💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
बाबा अब जल्दी से तुम लेने आओ !
Taj Mohammad
तोड़कर तुमने मेरा विश्वास
gurudeenverma198
हर सिम्त यहाँ...
अश्क चिरैयाकोटी
✍️तलाश करो तुम✍️
"अशांत" शेखर
यादों के झरोखों से।
Taj Mohammad
मिलेंगे लोग कुछ ऐसे गले हॅंसकर लगाते हैं।
सत्य कुमार प्रेमी
पिता का दर्द
Nitu Sah
ईश्वर का खेल
Anamika Singh
हमारा घर छोडकर जाना
Dalveer Singh
उस पथ पर ले चलो।
Buddha Prakash
** मेरे खुदा **
Swami Ganganiya
✍️हमसे लिपट गये✍️
"अशांत" शेखर
" पवित्र रिश्ता "
Dr Meenu Poonia
यह तो वक्ती हस्ती है।
Taj Mohammad
हम बस देखते रहे।
Taj Mohammad
हृदय का सरोवर
सुनील कुमार
दर्द से खुद को
Dr fauzia Naseem shad
उलझन
Anamika Singh
If We Are Out Of Any Connecting Language.
Manisha Manjari
कवनो गाड़ी तरे ई चले जिंदगी
आकाश महेशपुरी
इंद्रधनुष
Arjun Chauhan
रूह को कैसे सजाओगे।
Taj Mohammad
खुदा ने जो दे दिया।
Taj Mohammad
Loading...