Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 7, 2021 · 1 min read

दुकानों की पगड़ी (कुंडलिया)

* दुकानों ही पगड़ी (कुंडलिया)*
??????
पगड़ी महंगी हो गई , कैसे मिले दुकान
बड़ा किराए से हुआ ,पगड़ी का भुगतान
पगड़ी का भुगतान , रंक कैसे दे पैसे
मुश्किल में व्यापार , कष्ट हैं कैसे – कैसे
कहते रवि कविराय ,नई आफत यह तगड़ी
बेचें निजी मकान ,चुकाएँ तब फिर पगड़ी
■■■■■■■■■■■■■??
रचयिता : रवि प्रकाश ,बाजार सर्राफा
रामपुर (उत्तर प्रदेश)
मोबाइल 99976 15451

154 Views
You may also like:
किसे फर्क पड़ता है।(कविता)
sangeeta beniwal
ऐ वतन!
Anamika Singh
मां तेरे आंचल को।
Taj Mohammad
आन के जियान कके
अवध किशोर 'अवधू'
चाहे मत छूने दो मुझको
gurudeenverma198
इज्जत
Rj Anand Prajapati
नहीं रहे "कहो न प्यार है" के गीतकार व हरदिल...
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
तेरा जां निसार।
Taj Mohammad
✍️पेड़ की आत्मकथा✍️
'अशांत' शेखर
श्रावण सोमवार
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
✍️✍️हमदर्द✍️✍️
'अशांत' शेखर
हे ! धरती गगन केऽ स्वामी...
मनोज कर्ण
रास रचिय्या श्रीधर गोपाला।
Taj Mohammad
آج کی رات ان آنکھوں میں بسا لو مجھ کو
Shivkumar Bilagrami
हर ख़्वाब झूठा है।
Taj Mohammad
फूलों की वर्षा
Pt. Brajesh Kumar Nayak
तपिसों में पत्थर
Dr. Sunita Singh
मेरी आदत खराब कर
Dr fauzia Naseem shad
'खिदमत'
Godambari Negi
वह प्यार कैसा होगा
Anamika Singh
गँवईयत अच्छी लगी
सिद्धार्थ गोरखपुरी
श्रृंगार
Alok Saxena
मेरी लेखनी
Anamika Singh
महामोह की महानिशा
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
जाऊं कहां मैं।
Taj Mohammad
When I missed you.
Taj Mohammad
नाम लेकर भुला रहा है
Vindhya Prakash Mishra
भारत माँ के वीर सपूत
Kanchan Khanna
वर्तमान परिवेश और बच्चों का भविष्य
Mahender Singh Hans
✍️किस्मत ही बदल गयी✍️
'अशांत' शेखर
Loading...