Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 13, 2021 · 1 min read

पक्के लोग

हंसते तो सबके साथ है
रोने को तन्हाई ढूंढते है
वो लोग बड़े पक्के होते है
जो जहर में दवाई ढूंढते है
कभी मयस्सर नही हुआ खुदा,तो ढूंढना छोड़ देगे क्या
पत्थरों में टटोलकर खुदाई ढूंढते है

मयस्सर : मिला

1 Like · 218 Views
You may also like:
ज़ाफ़रानी
Anoop Sonsi
वो इश्क है किस काम का
Ram Krishan Rastogi
दिल में बस जाओ तुम
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
दरारों से।
Taj Mohammad
निज़ामी आसमां की।
Taj Mohammad
होली का संदेश
Anamika Singh
तेरा ख्याल।
Taj Mohammad
जेब में सरकार लिए फिरते हैं
VINOD KUMAR CHAUHAN
✍️कलम और चमच✍️
'अशांत' शेखर
"निरक्षर-भारती"
Prabhudayal Raniwal
बचपन की यादें
Anamika Singh
✍️मुमकिन था..!✍️
'अशांत' शेखर
We Would Be Connected Actually
Manisha Manjari
*प्रखर राष्ट्रवादी श्री रामरूप गुप्त*
Ravi Prakash
देख आंखों में
Dr fauzia Naseem shad
कुछ ना रहा
Nitu Sah
मेरी रातों की नींद क्यों चुराते हो
Ram Krishan Rastogi
मेरा परिवार
Anamika Singh
कभी कभी।
Taj Mohammad
"क़तरा"
Ajit Kumar "Karn"
कोई तो दिन होगा।
Taj Mohammad
✍️वो कहा है..?✍️
'अशांत' शेखर
हर रोज़ ही हम।
Taj Mohammad
चलो जहाँ की रूसवाईयों से दूर चलें
VINOD KUMAR CHAUHAN
सहज बने गह ज्ञान,वही तो सच्चा हीरा है ।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
पापा आप बहुत याद आते हो।
Taj Mohammad
*विश्व योग का दिन पावन इक्कीस जून को आता(गीत)*
Ravi Prakash
वक्त
Harshvardhan "आवारा"
जीवन संगनी की विदाई
Ram Krishan Rastogi
✍️दफ़न हो गया✍️
'अशांत' शेखर
Loading...